DA Image
29 अक्तूबर, 2020|3:32|IST

अगली स्टोरी

गरजेंगे या नरमी बरतेंगे...खुद को PM का 'हनुमान' बताने वाले चिराग पर क्या रहेगा चुनावी रैली में मोदी का स्टैंड, टिकी हैं सबकी निगाहें

modi chirag

बिहार विधानसभा चुनाव के सियासी दंगल में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एंट्री हो रही है। पीएम मोदी की आज ताबड़तोड़ तीन रैलिया हैं और इस दौरान वह अपने भाषणों से बिहार का सियासी रुख मोड़ने की कोशिश करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार चुनाव प्रचार के पहले दिन आज सासाराम, गया और भागलपुर में तीन जनसभाओं को संबोधित करेंगे। इस दौरान पीएम के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मंच साझा करेंगे। मगर यहां सबकी निगाहें इस बात पर होगी कि नीतीश कुमार के सामने पीएम मोदी लोजपा प्रमुख चिराग पासवान पर हमला बोलते हैं या नहीं। चिराग पासवान बिहार चुनाव में बीजेपी के साथ नहीं हैं, ऐसे में जब पीएम मोदी विरोधियों पर चुनावी तीर चलाएंगे तो क्या उसकी जद में चिराग पासवान भी आएंगे? इस पर पूरे देश की नजर रहेगी। 

दरअसल, चिराग पासवान की पार्टी लोजपा इस बार बिहार में एनडीए से अलग होकर अकेले चुनाव लड़ रही है। लोजपा प्रमुख चिराग अब तक नीतीश कुमार पर हमलावर रहे हैं, मगर पीएम मोदी या उनकी सरकार खिलाफ उन्होंने एक भी शब्द नहीं बोला है। अब तक अगर चिराग पासवान के चुनावी प्रचार को गौर से देखें तो वह अपने भाषणों में नीतीश कुमार के खिलाफ जमकर बोल रहे हैं, मगर भाजपा के खिलाफ उनका रुक नरम नजर आ रहा है। इतना ही नहीं, प्रेस कॉन्फ्रेंस हो या चुनावी रैली, चिराग पासवान एक तरह से नीतीश कुमार के खिलाफ वोट मांग रहे हैं। भले ही नीतीश और बीजेपी एक साथ चुनाव लड़ रही है, मगर विरोधी के तौर पर चिराग के टारगेट में नीतीश की पार्टी जदयू ही है।

अब ऐसे में यहां यह देखना होगा कि पीएम मोदी अपने भाषणों में जिस तरह से विरोधी दलों पर गरजते हैं, यहां बिहार में वो चिराग पासवान के खिलाफ कुछ बोलते हैं या नहीं। बिहार में चुनावी शंखनाद के बाद से ही चिराग पासवान पीएम मोदी का बार-बार नाम ले रहे हैं, उससे सियासी पंडितों का मानना है कि पीएम मोदी चिराग पासवान या फिर उनकी पार्टी लोजपा पर प्रत्यक्ष तौर कुछ हमला नहीं करेंगे। वजह यह बताई जा रही है कि चिराग पासवान खुद को पीएम मोदी का हनुमान बता चुके हैं। इसके अलावा, वह लगातार मोदी की तारीफ कर रहे हैं। 

चिराग तो खुद को पीएम का हनुमान बता चुके हैं। पिछले दिनों जब पीएम मोदी की तस्वीर को लेकर विवाद हुआ था तो उन्होंने कहा था कि मुझे प्रधानमंत्री के तस्वीर के इस्तेमाल की जरूरत ही नहीं है। मैं उनका हनुमान हूं। मेरे दिल में उनकी तस्वीर बसती है, किसी दिन होगा तो छाती चीरकर भी दिखा दूंगा कि मेरे दिल में प्रधानमंत्री बसते हैं। हां तस्वीर लगाने की जरूरत मुख्यमंत्री जी को जरूर है क्योंकि वह निरंतर पीएम का विरोध करते रहे हैं।

बीते दिनों जब देश के नाम पीएम मोदी संबोधन देने वाले थे, तब भी चिराग पासवान ने अपने उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं से इसे सुनने की अपील की। पीएम मोदी के मंगलवार को राष्ट्र के नाम संबोधन को चिराग पासवान ने राष्ट्रहित में बताया और कहा राष्ट्रहित में किए जा रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन को सुनें।कोरोना के कारण दूरी का भी ध्यान दें।' इसके अलावा, गुरुवार को भी जब चिराग पासवान ने नीतीश कुमार पर ट्वीट करके हमला बोला तो उसके केंद्र में भी नरेंद्र मोदी ही थे। उन्होंने अपने ट्वीट के जरिए नीतीश कुमार पर पिछली बार बीजेपी के साथ भीतरघात करने का आरोप लगाया और कहा कि पिछली बार लालू प्रसाद यादव के आशीर्वाद से नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने और फिर उनको धोखा देकर प्रधानमंत्री पीएम मोदी के आशीर्वाद से रातो-रात मुख्यमंत्री बन गए। इस बार कहीं नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद लेकर फिर लालू प्रसाद के शरण में ना चले जाएं साहब।'

हालांकि, चिराग पासवान खुद पर सियासी हमले के लिए पीएम मोदी को लाइसेंस दे चुके हैं। बीते दिनों उन्होंने कहा था कि अगर नीतीश कुमार को संतुष्ट करने के लिए मोदी को उनके खिलाफ कुछ कहना पड़े तो वह बेहिचक कहें। चिराग पासवान ने चुनाव के दौरान ही सार्वजनिक तौर पर यह कहा था कि उनके और पीएम मोदी के बीच रिश्ते अच्छे हैं। उन्होंने कहा था कि मेरे और प्रधानमंत्री के रिश्ते कैसे हैं, मुझे इसका प्रदर्शन करने की जरूरत नहीं है। पापा (केंद्रीय मंत्री दिवंगत रामविलास पासवान) जब अस्पताल में थे तब से लेकर उनकी अंतिम यात्रा तक उन्होंने मेरे लिए जो कुछ किया उसे मैं कभी नहीं भूल सकता। मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसी धर्मसंकट में पड़ें। वह अपना गठबंधन धर्म निभाएं। मौजूदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को संतुष्ट करने के लिए मेरे खिलाफ भी कुछ कहना पड़े तो नि:संकोच कहें।' 

चिराग के इन सभी बयानों पर नजर रखने वालों को इंतजार है आज बिहार में पीएम मोदी के भाषणों की। जब पीएम मोदी बिहार में सासाराम, गया और भागलपुर में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे तो उनके साथ नीतीश कुमार भी होंगे। अब देखना होगा कि चुनावी जीतने के लिए चिराग पासवान के खिलाफ मोदी क्या स्टैंड लेते हैं। यहां यह भी ध्यान देने वाली बात है कि चिराग पासवान भले ही नीतीश कुमार के खिलाफ हैं, मगर बीजेपी से उनकी नजदीकियां अब भी उनके बयानों में दिखती है। यही वजह है कि वह लगातार दावा कर रहे हैं कि चुनाव बाद वह बिहार में बीजेपी के साथ सरकार बनाएंगे। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bihar Assembly Election 2020 PM Narendra Modi Chirag Paswan Nitish Kumar Modi rally in Bihar vidhan Sabha chunav