DA Image
16 सितम्बर, 2020|8:39|IST

अगली स्टोरी

Bihar Assembly Election 2020: कोरोना संक्रमित वोटरों को सबसे अंत में मिलेगा वोटिंग का मौका

voting in the delhi assembly election 2020 will be held on february 8   pti file photo

बिहार में कोरोना काल में हो रहे चुनाव में विशेष सतर्कता बरती जाएगी। ऐसे वोटरों को सबसे अंत में मतदान का मौका मिलेगा जो कोरोना से संक्रमित होंगे या पहले संक्रमण की जद में आ चुके हैं और अब ठीक हैं। संक्रमित व पहले संक्रमित हो चुके वोटरों की सूची अलग से मतदान केंद्रों पर रहेगी। ऐसा इसलिए किया जाएगा, ताकि पोस्ट कोविड से किसी को संक्रमण का खतरा न हो। 

अब तक जितने भी लोग संक्रमित पाए गए हैं, उनको विधानसभावार चिह्नित किया जा रहा है। इसकी जानकारी संबंधित निर्वाचन अधिकारी एवं अन्य पदाधिकारियों को दी जा रही है। भारत निर्वाचन आयोग की टीम ने सोमवार को अधिकारियों के साथ बैठक में कोविड-19 को देखते हुए आवश्यक निर्देश दिये हैं। जो मतदाता एक बार कोरोना वायरस से संक्रमित हो गया है, उसकी सूची प्रशासन संबंधित मतदान केंद्रों को देगा। 

चूंकि ऐसे लोगों में पोस्ट कोरोना वायरस होने का खतरा रहता है। ऐसे में पीड़ित लोगों में दोबारा बीमारी हो सकती है, इसीलिए एक बार भी संक्रमित पाए गए मरीज के सबसे अंत में मतदान करने की व्यवस्था होगी। अधिकारियों का कहना है कि मतदाता सूची में मतदान के दो दिन पहले तक संक्रमितों या कोरोना वायरस के संदिग्ध लोगों की सूची अपडेट की जाएगी। 

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) में इस बार कोविड-19 (Covid-19) को देखते हुए मतदाताओं के लिए दो तरह की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक मतदान केंद्र पर कोविड-19 के मरीजों के लिए मतदान की अलग व्यवस्था की गई है। सबसे पहले सामान्य लोग मतदान करेंगे। उसके बाद कोविड-19 के संदिग्ध या पॉजिटिव को मतदान कराने की व्यवस्था होगी। ऐसे लोगों को मतदानकर्मी पीपीई किट पहनकर मतदान कराएंगे। इसके लिए जिला प्रशासन ने अलग से एक्शन प्लान बनाया है। 

हर विधानसभा क्षेत्र में एक कोविड-19 कोषांग
पहली बार सभी विधानसभा क्षेत्र में अलग से कोविड-19 कोषांग का गठन किया गया है। प्रत्येक कोषांग को जिम्मेवारी दी गई है कि अपने - अपने विधानसभा क्षेत्र में कोरोना पॉजिटिव या संदिग्ध मरीजों की सूची संबंधित मतदान केंद्रों पर दें। वैसे जिला स्तर पर कोविड-19 के मरीजों की सूची तैयार की जा रही है। 

पटना में अब तक 24 हजार संक्रमित
पटना जिले में वर्तमान समय में कोरोना मरीजों की संख्या 23 हजार 924 है। इसमें 1944 मरीज एक्टिव हैं। प्रशासन का कहना है कि 21 हजार से अधिक मरीज ठीक होकर घर लौट गए हैं या घर पर आइसोलेशन में ही उनकी स्थिति बेहतर हो गई है। 

12 हजार से अधिक वाहनों की होगी जरूरत
पटना जिले में विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रशासन ने लगभग 12 हजार वाहनों को इस कार्य के लिए इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है। चुनाव कार्य में मोटरसाइकिल का भी इस्तेमाल होगा, क्योंकि सुदूर इलाके में जहां चार पहिया वाहन नहीं जा सकेंगे, वहां मास्टर ट्रेनर या अन्य कर्मियों को भेजने के लिए मोटरसाइकिल दी जाएगी। पहले प्रखंड मुख्यालय स्तर पर वाहनों को रखा जाता था, लेकिन इस बार प्रखंड में कई जगहों पर वाहनों को रखने की व्यवस्था की जा रही है तथा वहां से संबंधित मतदान केंद्रों के लिए भेजे जाएंगे।

राज्य में अब तक एक लाख 61 हजार हो चुके हैं संक्रमित
राज्य में अब तक 50 लाख सैंपल की जांच हुई है। इसमें एक लाख 61 हजार 101 लोगों में बीमारी की पुष्टि हुई है। वर्तमान समय में 14 हजार 513 कोरोना के एक्टिव मरीज हैं। अब तक 822 कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि कोरोना संक्रमित मरीज काफी तेजी से ठीक हो रहे हैं। बिहार में अब तक एक लाख 43 हजार कोरोना संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। 

भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश के बाद पटना जिले में एक्शन प्लान बनाया गया है। जिसके अनुसार पहले सामान्य लोगों का मतदान कराया जाएगा, उसके बाद संक्रमित या संदिग्ध मरीजों की वोटिंग होगी। इसके मद्देनजर तैयारी चल रही है। - रतनांबर नीलय, जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी, पटना
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bihar Assembly Election 2020 : Corona infected All voters of will get voting opportunity in end