DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विधानसभा चुनाव  ›  बंगाल चुनाव 2021  ›  हार के बाद तकरार: बंगाल चुनाव में कम सीटें मिलने पर दिलीप घोष और इन 3 केंद्रीय नेताओं पर बरसे तथागत रॉय

बंगाल चुनाव 2021हार के बाद तकरार: बंगाल चुनाव में कम सीटें मिलने पर दिलीप घोष और इन 3 केंद्रीय नेताओं पर बरसे तथागत रॉय

हिन्दुस्तान ,कोलकाताPublished By: Surya Prakash
Thu, 06 May 2021 05:00 PM
हार के बाद तकरार: बंगाल चुनाव में कम सीटें मिलने पर दिलीप घोष और इन 3 केंद्रीय नेताओं पर बरसे तथागत रॉय

पश्चिम बंगाल बीजेपी के सीनियर लीडर तथागत रॉय ने राज्य में पार्टी को 77 सीटें ही मिल पाने पर प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और तीन केंद्रीय नेताओं पर निशाना साधा है। मेघायल और त्रिपुरा के गवर्नर रहे तथागत रॉय ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर बीजेपी के तीन केंद्रीय नेताओं और दिलीप घोष पर हमला बोला है। तथागत राय ने ट्वीट किया, 'कैलाश-दिलीप-शिव अरविंद ने हमारे सम्मानित पीएम और होम मिनिस्टर अमित शाह की छवि खराब की है। उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी का नाम खराब किया है।' इस तरह से उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजय वर्गीय पर निशाना साधा है, जो बंगाल के प्रभारी थे। इसके अलावा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश एवं अरविंद मेनन को टारगेट किया है। 

बंगाल में 2002 से 2006 तक पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे तथागत रॉय ने कहा कि इन नेताओं ने 7 सितारा होटलों में बैठकर तृणमूल से आने वाले कचरे को टिकट बांट दिए। रॉय ने कहा कि अब कार्यकर्ताओं की आलोचना से ये लोग बच रहे हैं। बीजेपी के सीनियर लीडर ने कहा कि इन लोगों ने वैचारिक आधार पर काम करने वाले बीजेपी के कार्यकर्ताओं और समर्पित स्वयंसेवकों का अपमान किया है, जो 1980 के दशक से ही अथक मेहनत पार्टी के लिए करते रहे हैं। आज उन्हीं लोगों को तृणमूल के कार्यकर्ताओं के हमले झेलने पड़ रहे हैं। लेकिन आज ये लोग उन्हें बचाने के लिए नहीं आएंगे। 

सह-संगठन महामंत्री शिवप्रकाश और अरविंद को राज्य में चुनाव के प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गई थी। इसके अलावा बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को प्रभारी के तौर पर काम सौंपा गया था। बीजेपी की ओर से विधानसभा चुनाव में 200 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया गया था, लेकिन वह 77 सीटों पर ही कब्जा जमा सकी। वहीं टीएमसी ने अपने पिछले प्रदर्शन से भी आगे निकलते हुए 213 सीटें हासिल की हैं। तथागत रॉय ने कहा कि लोग कहते हैं कि आखिर केंद्रीय नेतृत्व को इसके लिए जिम्मेदार क्यों नहीं माना जाए। 

संबंधित खबरें