DA Image
30 मार्च, 2021|4:44|IST

अगली स्टोरी

भारत में वायरस से 50 करोड़ के मरने की 'दुआ' करने वाले पीरजादा से गठबंधन पर घिरी कांग्रेस

rahul gandhi  maulana abbas siddiqui

पश्चिम बंगाल में इंडियन सेकुलर फ्रंट से गठबंधन करने पर कांग्रेस घिरती दिख रही है। पार्टी के ही सीनियर नेता आनंद शर्मा की ओर से सवाल उठाए जाने के बाद अब इंडियन सेकुलर फ्रंट के नेता पीरजादा अब्बास सिद्दीकी के कई विवादित बयान वायरल हो रहे हैं, जिन पर जवाब देना कांग्रेस के लिए मुश्किल साबित हो रहा है। पिछले साल एक बयान में अब्बास सिद्दीकी ने कहा था, 'अल्लाह भारत में एक ऐसा वायरस भेज दे, जहां 10, 20 या फिर 50 करोड़ भारतीयों को खत्म कर दे। हम मुसलमान हैं और हर दिन नमाज पढ़ते हैं तो फिर कोरोना हमारा कुछ नहीं कर सकता।' 

मंगलवार को एक टीवी न्यूज चैनल पर डिबेट के दौरान जब इसका सवाल उठा तो कांग्रेस प्रवक्ता बचाव करते दिखे और कहा कि उनकी पार्टी का नाम ही इंडियन सेकुलर फ्रंट है। ऐसे में उन्हें सांप्रदायिक कैसे कहा जा सकता है। कांग्रेस प्रवक्ता अंशुल अविजीत ने कहा कि वह कट्टर नेता नहीं हैं और गठबंधन के बाद से उन्होंने कोई विवादित बयान नहीं दिया है। यही नहीं उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में मजार और पीर का एक लंबा इतिहास रहा है। यदि वह मौलाना हैं तो इसमें गलत बात क्या है। पीरजादा अब्बास सिद्दीकी का एक और वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह कहते हैं, 'यह पश्चिम बंगाल है। यहां मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं है। यदि ये लोग सत्ता में आ जाएंगे तो हमारी औरतों के साथ रेप करेंगे।' 

आनंद शर्मा ने बताया था सेकुलरिज्म के सिद्धांतों के खिलाफ
इन बयानों पर सवाल पूछे जाने के जवाब में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि 21 फरवरी को पार्टी के गठन के बाद से उनका कोई विवादित बयान सामने नहीं आया है। बता दें कि अब्बास सिद्दीकी की पार्टी से गठबंधन को लेकर आपत्ति जताते  हुए सीनियर कांग्रेस लीडर आनंद शर्मा ने कहा था कि यह पार्टी के सेकुलरिज्म के सिद्धांतों और इतिहास के खिलाफ है। उनके इस बयान पर कांग्रेस में ही विवाद छिड़ गया था और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने उन पर हमला बोलते हुए कहा था कि वह बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं। 

वामदलों में भी छिड़ी है सिद्दीकी पर रार, फॉरवर्ड ब्लॉक ने बनाई दूरी
अब्बास सिद्दीकी से गठबंधन को लेकर कांग्रेस ही नहीं वामदलों में भी संघर्ष छिड़ गया है। यहां तक कि सिद्दीकी के साथ मिलकर जिस रैली का आयोजन हुआ था, उसमें फॉरवर्ड ब्लॉक शामिल नहीं हुई थी। इस पार्टी का गठन स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस ने किया था। कांग्रेस प्रवक्ता ने गठबंधन को लेकर बचाव करते हुए कहा कि हम उनके बयानों से सहमत नहीं हैं, लेकिन उन्होंने साफ किया है कि उनके जो वीडियो वायरल हो रहे हैं, वे डॉक्टर्ड वीडियो हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:congress faces criticism over coalition with abbas siddiqui of indian secular front his controversial videos viral