DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विधानसभा चुनाव  ›  बंगाल चुनाव 2021  ›  चुनाव के बाद देख लेने की धमकी देने वाले टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान की शिकायत ले आयोग पहुंची बीजेपी

बंगाल चुनाव 2021चुनाव के बाद देख लेने की धमकी देने वाले टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान की शिकायत ले आयोग पहुंची बीजेपी

हिन्दुस्तान ,नई दिल्लीPublished By: Surya Prakash
Thu, 04 Mar 2021 06:07 PM
चुनाव के बाद देख लेने की धमकी देने वाले टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान की शिकायत ले आयोग पहुंची बीजेपी

पश्चिम बंगाल की राजनीति बयानबाजी की जंग अब चुनाव आयोग तक पहुंच गई है। तृणमूल कांग्रेस के विधायक हमीदुल रहमान की ओर से पार्टी बदलने वालों को देख लेने की धमकी देने वाले बयान की बीजेपी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है। गुरुवार शाम को पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल नई दिल्ली में निर्वाचन आयोग के दफ्तर पर पहुंचा। तृणमूल कांग्रेस के विधायक ने 2 मार्च को बयान दिया था, जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था। उन्होंने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, 'हमारे पूर्वज कहते हैं कि जिसका नमक खाते हैं। उसकी नमकहरामी नहीं करते।'

यही नहीं हमीदुल रहमान ने पार्टी बदलने वाले लोगों को चुनाव के बाद देख लेने की धमकी भी दी थी। हमीदुल रहमान ने कहा था, 'हमारे पूर्वजों ने कहा था कि जिसका नमक खाते हैं, उसकी नमकहरामी नहीं करते। चुनाव के बाद हम उन लोगों से मिलेंगे, जिन्होंने हमें धोखा दिया है। बेईमान लोगों के साथ खेलो होबे। हम सभी लोग दीदी को अपना सीएम एक बार फिर से देखना चाहते हैं।' बता दें कि पश्चिम बंगाल में टीएमसी की ओर से खेला होबे का नारा दिया रहा है, जबकि बीजेपी ने उसके जवाब में जय श्रीराम का नारा दिया है।

विजयवर्गीय का ममता से सवाल- क्या होता है खेला होबे: चुनाव आयोग में टीएमसी की शिकायत दर्ज कराने के बाद बीजेपी लीडर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, हुबली में ममता बनर्जी ने कहा कि हम तो खेला करेंगे, खेला क्या होता है मतलब पोलिंग बूथ पर कब्जा, मतदाताओं को डराना, निष्पक्ष चुनाव न होना। ये सब खेला करने की कोशिश TMC करना चाहती है और इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने सारी जानकारियों से चुनाव आयोग को अवगत कराया।'

भूपेंद्र यादव बोले, टीएमसी ने निगमों पर किया अवैध कब्जा: इसके अलावा बीजेपी के राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव ने कहा कि पश्चिम बंगाल में 125 नगर निकायों के कार्यकाल को एक साल के लिए बढ़ाने की जरूरत है। लेकिन राज्य सरकार उनमें अपने प्रशासक नियुक्त कर दिए हैं। राज्य में सही से चुनाव कराने के लिए इन्हें हटाए जाने की जरूरत है।

संबंधित खबरें