DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरे लिए मानसिक फिटनेस रखती है मायने- हुमा कुरैशी

आप अच्छी अभिनेत्री हैं। अच्छे अभिनय के लिए काफी तैयारी करनी पड़ती होगी?
जैसा आप सोच रही हैं, वैसा कुछ खास कोशिश नहीं करनी पड़ती। ये सारे गुण मुझे कुदरत से मिले हैं, इसलिए मुझे परदे पर या फिर परदे से बाहर के जीवन के लिए कोई खास तैयारी नहीं करनी पड़ती। बस, किरदार को समझती हूं और फिर खुद को डायरेक्टर को सौप देती हूं। वो जैसा बोलते हैं, वैसा मैं कैमरे के सामने कर देती हूं। लेकिन ये सारे काम सही समय पर हों, इसके लिए मैं अपने टाइम मैनेजमेंट पर जोर देती हूं। साथ ही थोड़ा-सा फिटनेस का ख्याल रखती हूं, ताकि सभी कार्य सही समय पर पूरे हो जाएं।

फिटनेस के लिए क्या करती हैं?
मेरी फिटनेस की परिभाषा लोगों से थोड़ी अलग है। मेरे लिए फिटनेस फिजिकल से ज्यादा मेंटल है। मैं मानती हूं कि हमें अपने समय का सदुपयोग करने के लिए दोनों प्रकार से फिट रहना चाहिए। मैं शारीरिक फिटनेस के लिए जहां व्यायाम और आहार का ख्याल रखती हूं, वहीं मानसिक तौर पर फिट रहने के लिए किताबें पढ़ती हूं, मेडिटेशन करती हूं।

थोड़ा विस्तार से बताएं?
मैं फिटनेस के लिए ज्यादा कुछ नहीं करती। बस संतुुलित आहार लेती हूं और व्यायाम करती हूं, ताकि शरीर की फिटनेस बनी रहे। मन की फिटनेस मेरे काम से जुड़ी हुई है। मैं एक कलाकार हूं, इसलिए मन को मेरी कला से खुशी मिलती है। साथ ही किताबें पढ़ती हूं, क्योंकि उससे बहुत कुछ मिलता रहता है। इससे भी खास बात यह है कि मैं हमेशा खुश रहती हूं और जिंदगी को खुल कर जीने की कोशिश करती हूं।

व्यक्तित्व निर्माण में सबसे ज्यादा किस बात का असर होता है?
बहुत सारी बातों का असर होता है। दरअसल, व्यक्तित्व के निर्माण में सालों की मेहनत, सोच, बरसों पहले पढ़ी हुई बातें या फिर देखी हुई किसी भी फिल्म का असर हो सकता है। कई बार आसपास के लोगों का भी बहुत असर होता है। 

इसके पीछे भाग्य काम करता है?
पता नहीं, पर मुझे लगता है कि एक मास्टर प्लान जरूर होता है। मैं मानती हूं कि जिंदगी चुनाव है। एक पसंद हमें दो राहों पर लाकर खड़ा कर देती है। अगर पसंद अलग हो जाए तो रास्ते भी बदल जाते हैं, लेकिन जो राह हमने नहीं चुनी, उसके बारे में केवल कल्पना कर सकते हैं। जिसका उत्तर असंभावित होता है, शायद इसे ही लक कहते होें!

सही और गलत तो मानती हैं?
मैंने जिंदगी में कभी इतनी स्पष्ट रेखा नहीं खींची, क्योंकि मुझे लगता है कि सारा निर्णय केवल दिस एंड दैट पर नहीं हो सकता। जो थोड़ी बहुत रेखा खिंच भी जाती है, उसमें ढेर सारी बातें काम कर रही होती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fitness routine of huma qureshi