DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छुट्टियों में काम और बच्चों के बीच यूं बिठाएं तालमेल

mother and son  symbolic image

स्कूल के दिनों में बच्चों का आधा दिन तो पढ़ाई में निकल जाता है और बचा हुआ घर में। इन व्यस्त दिनों में आपको अपने बच्चों की ज्यादा चिंता नहीं करनी पड़ती है। हर दिन एक जैसी दिनचर्या के साथ बीत जाता है, लेकिन छुट्टियों में बच्चों की दिनचर्या एक जैसी नहीं रहती। छुट्टियों में बच्चों की अपने पेरेंट्स से उम्मीदें बढ़ने लगती हैं। कई दफा आपको भी उन्हें पर्याप्त समय न दे पाने के कारण आत्मग्लानि महसूस होती होगी। ऐसे में आप कुछ ट्रिक्स को आजमाकर बच्चों को क्वालिटी टाइम देने की कोशिश कर सकती हैं। इसके लिए आपको अपने जीवनसाथी की मदद भी लेनी होगी।

  • बतौर अभिभावक टीम की तरह कार्य करें। बच्चों की जिम्मेदारी दोनों सदस्य आपस में बांटें। इससे आपका बच्चा उपेक्षित महसूस नहीं करेगा।
  • दिन का कुछ वक्त सिर्फ बच्चों के नाम रखें। इस दौरान कोई अन्य काम न करें।
  • बच्चों की क्षमता के अनुसार उनको कार्य दें। इससे वे व्यस्त रहेंगे। इन कार्यों में पढ़ाई के अलावा घर के अन्य कार्य भी शामिल कर लें, जैसे पौधों को पानी देना, अलमारी ठीक करना आदि। कुछ कार्यों के लिए आप उन्हें इनाम भी दे सकती हैं।
  • बच्चों के साथ घर में ही पार्टी प्लान कर सकती हैं। वीकेंड पर तो आपकी भी छुट्टी होती है। इस दौरान कहीं घूमने की योजना बना सकती हैं।
  • किड पुलिंग भी एक अच्छा विकल्प है। अगर आप किसी सोसाइटी में रहती हैं, तो कुछ मांएं आपस में सामंजस्य बिठाकर एक-एक दिन बच्चों की देख-रेख करने के लिए बांट सकती हैं। 

इन्हें अपनाएं संतुलन बनाएं

  • हर किसी के लिए हर वक्त उपलब्ध न रहें।
  • घर पर ऑफिस से आए फोन कम-से-कम रिसीव करें। ऑफिस में घरवालों से कम ही बात करें।
  • पार्टी या पारिवारिक समारोह में ऑफिस की चर्चा न करें।
  • अपने सामाजिक जीवन को भी महत्व दें। अपने सामाजिक जीवन को घर और ऑफिस के सदस्यों से अलग रखें।
  • सुबह उठते ही सबसे पहले फोन नहीं देखें।

(कंसल्टेंट साइकाइट्रिस्ट डॉ. स्मिता श्रीवास्तव से बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:co-ordination between work and children during their holidays