बीमारी फैलाने के लिए 3 तरह के मच्छर होते हैं जिम्मेदार, बचाव के ये हैं उपाय - beemaaree phailaane ke liye 3 tarah ke machchhar hote hain jimmedaar bachaav ke ye hain upaay DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीमारी फैलाने के लिए 3 तरह के मच्छर होते हैं जिम्मेदार, बचाव के ये हैं उपाय

mosquito

बच्चे बहुत नाजुक होते हैं। उन्हें हर परेशानी से बचाने की आपकी जिम्मेदारी है, फिर चाहे वो खून पीकर बीमारी फैलाने वाले मच्छर ही क्यों न हों। मच्छरों के प्रकोप से बच्चे को इस मौसम में कैसे बचाएं, बता रही हैं मोनिका अग्रवाल

चाहे कोई भी मौसम हो और घरों में कितनी भी सफाई क्यों न रखी जाए, मच्छरों का प्रकोप देखने को मिलता ही है। मच्छरों के कारण सबसे ज्यादा चिंता सताती है, बच्चों की। दरअसल, बच्चों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है और उनके बीमार होने की आशंका ज्यादा रहती है। मच्छरों के काटने से बच्चों को होने वाली बीमारियों से बचाने के लिए आपको सजग होना होगा और अपने घर को भी मच्छर-रहित बनाना होगा।

मुख्यत: बीमारी फैलाने वाले मच्छर तीन तरह के होते हैं। एक वे, जो घरों के साफ पानी में पनपते हैं और जमीन पर रहते हैं। ऐसे मच्छर पांव तक ही काट पाते हैं। दूसरी तरह के मच्छर मिट्टी के बर्तनों की जगह प्लास्टिक और रबड़ के सामानों में प्रजनन करते हैं और तीसरे प्रकार के मच्छर ठंडे वातावरण (एसी-कूलर) में पनपते हैं। ये मच्छर ही हैं, जो मलेरिया, चिकनगुनिया व डेंगू जैसी खतरनाक बीमारियों का कारण बनते हैं।

मच्छरों से कैसे बचें ?
दिन में मच्छर ज्यादातर अंधेरी जगहों, दीवार के कोनों, परदों के पीछे, सोफे, बेड, टेबल आदि के नीचे छुपे रहते हैं। मच्छरों को अपने घर से दूर रखने के लिए रोजाना इन जगहों की अच्छी तरह से सफाई करें। घर के दरवाजे और खिड़कियों पर जालियां लगाएं। जरूरत पड़ने पर ही इन जालियों को खोलें। ये मच्छर  शाम और रात में रोशनी की ओर आकर्षित होते हैं, इसलिए शाम को जरूरत पड़ने पर ही कमरों में लाइट जलाएं।  इसके अलावा घर में मच्छर भगाने वाले कॉयल आदि जलाकर रखें।

अधिकतर लोग इन्हें रात को जलाते हैं, लेकिन मच्छर दिन में भी काटते हैं, इसलिए इन्हें दिन में भी इस्तेमाल करना चाहिए। मच्छरों से बचने का सबसे अच्छा उपाय यह है कि आप खुद भी पूरी बाजू वाले कपड़े पहनें और बच्चे को भी ऐसे ही कपड़े पहनाएं। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कपड़ों का रंग हल्का हो क्योंकि गहरे रंगों की तरफ मच्छर  जल्दी आकर्षित होते हैं।

अगर एक सप्ताह तक थोड़ा सा भी पानी कहीं एकत्र हो तो वहां लाखों मच्छर जन्म ले लेते हैं। ऐसी कोई भी जगह जहां पानी इकट्ठा हो सकता हो, जैसे पक्षियों के लिए रखे गए पानी आदि को रोज  बदलें और दिन में एक बार बर्तन खाली करके सुखा दें। पेड़ ,पौधों और नालियों के आसपास डीडीटी पाउडर का छिड़काव करें। एहतियातन मच्छरदानी का प्रयोग करें ताकि घर के किसी भी कोने में अगर कोई मच्छर है, तो वह आपको या बच्चों को नुकसान न पहुंचा सके।

मच्छर भगाने के लिए आजमाएं ये खास उपाय-
-मच्छर भगाने के लिए किसी मॉस्क्वीटो रैपेलेंट की खाली रीफिल में नीम का तेल और कपूर मिलाकर उसे मशीन में लगाकर स्विच ऑन कर दें। इससे मच्छर नहीं आएंगे। यदि घर में मशीन नहीं है तो कपूर और नीम के तेल का दीपक भी जला सकती हैं।
-एक नीबू को बीच से काट लें। उसमें खूब सारे लौंग घुसा कर रखने से भी मच्छर दूर रहते हैं।
-लैवेंडर ऑयल की 15-20 बूंदें, 3-4 चम्मच वनीला एसेंस और एक चौथाई कप नीबू के रस को मिलाकर एक स्प्रे बोतल में रखें। बच्चों के कमरे में या बच्चों के बेड के आसपास इसका छिड़काव करें। यदि बच्चा थोड़ा बड़ा है तो तेल की कुछ बूंदें बच्चे के शरीर के खुले अंगों पर भी लगा सकती हैं।
-कई पौधों की खुशबू मच्छर भगाने का काम भी करती है। गेंदा, लेमन ग्रास, लैवेंडर, लेमन बाम, तुलसी और नीम के पौधे अपने घर के आसपास लगाएं या इनके रस को पानी में मिलाकर कमरे में और मच्छरों वाली जगह पर छिड़काव करें। मच्छर दूर रहेंगे।

खुजली से तुरंत मिलेगी राहत-
-मच्छर काटने पर होने वाली खुजली को कम करने के लिए नीबू के रस या एप्पल साइडर विनिगर में रुई के फाहे को भिगोकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं। फौरन राहत मिलेगी।
-मच्छर काटने पर अकसर छोटे बच्चों की त्वचा पर सूजन हो जाती है। इस सूजन को दूर भगाने व खुजली को कम करने के लिए एक रुमाल या कपड़े में बर्फ का टुकड़ा डालें और प्रभावित हिस्से की सिंकाई करें। तुंरत राहत मिलेगी।
-तुलसी की पत्तियों को पीसकर या एलोवेरा जेल को प्रभावित हिस्से पर लगाने से आराम मिलेगा।
-केले के छिलके के अंदर वाले हिस्से को प्रभावित हिस्से पर कुछ देर रगड़ें। खुजली से राहत मिलेगी।
-एक कटोरी में बेकिंग सोडा व आवश्यकतानुसार पानी डालकर पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को प्रभावित त्वचा पर लगाएं। खुजली व जलन से मुक्ति मिलेगी।
-मच्छर के काटने पर होने वाली खुजली से राहत पाने के लिए उस जगह पर एक बूंद शहद लगाएं। एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेट्री गुणों के कारण शहद तुरंत अपना असर दिखाता है।
-लैवेंडर ऑयल या टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें प्रभावित त्वचा पर लगाएं। खुजली व जलन से तुरंत राहत मिलेगी।
-लहसुन या प्याज का रस मच्छर प्रभावित त्वचा पर लगाने से जलन व खुजली से राहत मिलती है और मच्छर भी दूर रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:beemaaree phailaane ke liye 3 tarah ke machchhar hote hain jimmedaar bachaav ke ye hain upaay