DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदूषण: करें कुछ उपाय जो आपको प्रदूषण से बचाएं

गुड़ खाएं
अपनी डाइट में थोड़ा-सा गुड़ शामिल करें। गुड़ फेफड़ों से प्रदूषित कण को साफ करने में काफी कारगर साबित होता है। इसी कारण कोयले की खानों में काम करने वाले लोग नियमित रूप से गुड़ खाते हैं। आप भी नियमित रूप से गुड़ खाएं।

घर में इनडोर प्लांट लगाएं
कई इनडोर प्लांट हैं, जो अपने आसपास मौजूद प्रदूषण को साफ करते हैं और वहां की हवा को प्रदूषण मुक्त बनाते हैं। इनमें एरिका पाम, रबर प्लांट और पीस लिली प्रमुख हैं। एरिका पाम को धूप की जरूरत नहीं होती। वह धूप वाली तेज रोशनी से ही खूब हरा-भरा रहता है और अपना काम करता है। रबर प्लांट को भी धूप की बिल्कुल जरूरत नहीं पड़ती। पीस लिली को नियमित रूप से पानी की जरूरत होती है और वह भी बिना धूप के ही हरा-भरा रहता है। इन पौधों को आप अपने घर में सजा सकते हैं, जिससे आपको साफ हवा तो मिलेगी ही, घर की खूबसूरती भी बढ़ेगी।

हल्दी और शहद
अपने आप को प्रदूषण के असर से बचाए रखने के लिए आप नियमित रूप से हल्दी और शहद का भी सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप एक कप पानी में आधा चम्मच हल्दी पाउडर उबालें और उस पानी में आधा चम्मच शहद मिलाकर सुबह-सुबह नियमित रूप से पिएं।

कपूर जलाएं
घर और आसपास मौजूद वायु प्रदूषण को दूर करने के लिए घर में कपूर जलाएं। यह हवा में मौजूद दूषित कणों को काटता है और बाजार में आसानी से उपलब्ध भी है। एक बार में थोड़ा ही कपूर जलाएं।

नाक में अणु तेल डालें
प्रदूषण के कारण यदि आपको साइनस होता है या नाक बंद हो जाती है तो आप नाक में अणु तेल डालें। इससे नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करने वाले बैक्टीरिया या वायरस से जो एलर्जी होती है, वह ठीक हो जाती है। इस तेल की दो-दो बूंदें रात के समय नाक में डालनी चाहिए। अगर इसे प्राप्त करने में अधिक दिक्कत हो तो आप इतनी ही मात्रा में गाय के शुद्ध घी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

पीपली का काढ़ा
सांसों की तकलीफ से राहत दिलाने में कुछ काढ़े का खास महत्व है, उनमें पीपली का काढ़ा भी शामिल है। इसे तैयार करने के लिए आपको एक गिलास पानी में एक चुटकी पीपली पाउडर, एक चुटकी हल्दी पाउडर और अदरक का छोटा सा टुकड़ा डालकर उबालना है। जब वह पानी जलकर आधा रह जाए तो उसमें आधा चम्मच शहद मिलाकर रोज पीना है। 

यूकलिप्टस तेल का भाप
जिन्हें सांस की तकलीफ है, उन्हें यूकलिप्टस तेल का भाप भी काफी राहत देती है। अपनी बंद नाक को आप इसकी सहायता से बड़ी आसानी से खोल सकते हैं। इसके लिए खौलते पानी में यूकलिप्टस तेल की चार-पांच बूंदें डालकर उसकी भाप लें। यूकलिप्टस तेल की जगह आप एसेंशियल ऑयल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, जिससे उतना ही लाभ होगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pollution and precautions