DA Image
23 जनवरी, 2020|2:38|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रूसी से मिलेगी राहत, चाहिए थोड़ी चाहत

सुंदर, चमकीले और घने बाल सबकी चाहत होते हैं, क्योंकि ये किसी भी व्यक्ति की खूबसूरती का हिस्सा होते हैं। लेकिन जब उनमें सफेद-सफेद रूसी (डैंड्रफ) चमकने लगती है तो पूरे व्यक्तित्व पर धब्बा सा लग जाता है। वैसे तो बालों की सेहत और खूबसूरती बनाये रखने के लिए पौष्टिक भोजन के साथ-साथ उनकी उचित देखभाल की भी बहुत जरूरत होती है, लेकिन आज की तेज रफ्तार जिंदगी में  बालों की देखभाल के लिए अलग से रोज समय कैसे निकाला जाए, यह बड़ा सवाल होता है। अगर खूबसूरत बालों की चाहत है तो आपको इन्हीं 24 घंटों में से अपने बालों के लिए भी समय निकालना होगा। खासतौर से डैंड्रफ से लड़ने के लिए यह जरूरी है।

क्या है यह समस्या
हमारे शरीर में नई कोशिकाएं लगातार बनती रहती हैं और पुरानी कोशिकाएं टूट कर झड़ती रहती हैं। यही प्रक्रिया हमारे सिर की त्वचा में भी चलती रहती है। जब तक यह प्रक्रिया सामान्य गति से चलती रहती है, तब तक कोई समस्या नहीं आती, लेकिन किसी संक्रमण के चलते या किसी अन्य कारण से जब सिर की त्वचा की मृत कोशिकाएं तेजी से नष्ट होने लगती हैं तो इसे रूसी की समस्या कहते हैं। किशोरावस्था और युवावस्था में रूसी की समस्या होना आम बात है। साथ ही बदलते मौसम जैसे सर्दियों में इसका प्रकोप ज्यादा बढ़ जाता है। रूसी बालों की चिकनाई खत्म करने के साथ-साथ उनकी प्राकृतिक चमक पर भी असर डालती है।

रूसी होने के कारण 
बालों में रूसी कई कारणों से हो सकती है, लेकिन मुख्यतौर पर सिर में सीबम पैदा करने वाली ग्रंथियां जब अधिक सक्रिय हो जाती हैं तो रूसी बनने लगती है। इसके अलावा युवावस्था में अधिक मात्रा में हार्मोंस बनने लगते हैं, जिसके चलते सिर में रूसी की समस्या बढ़ने लगती है। और भी कई ऐसे कारण हैं, जो रूसी बढ़ाने में मुख्य कारक बनते हैं।

सही ढंग से साफ-सफाई न रखना  
बालों में हमेशा तेल लगा कर रखने से या शैम्पू ठीक से न धोने से भी रूसी हो जाती है। अपने कंघे या हेयर ब्रश को भी नियमित रूप से साफ करना चाहिए तथा किसी और के कंघे, तौलिये आदि को इस्तेमाल में नहीं लाना चाहिए। गर्मी के मौसम में जब सिर पर पसीना आता है तो धूल के सम्पर्क में आकर वह सिर में जमने लगता है, जो धीरे-धीरे रूसी में बदल जाता है।

अन्य संक्रमण 
गीले बाल बांध लेने से या किसी अन्य संक्रमण की वजह से भी रूसी की समस्या हो सकती है। सिर में किसी प्रकार का फंगल इन्फेक्शन, सोरायसिस और एग्जीमा भी रूसी के मुख्य कारण माने जाते हैं। 

कैसी-कैसी रूसी
रूसी भी कई प्रकार की होती है। सामान्य रूसी सूखी और तैलीय दोनों प्रकार की हो सकती है और हर मौसम में बनी रहती है। तैलीय रूसी होने पर सिर में बहुत पसीना आता है। रूसी में नमी होती है और साथ ही सिर से तेल भी निकलता रहता है। सूखी रूसी होने पर बालों से रूसी झड़ती है और दिखाई भी देती है। 

कैसे करें बचाव
एक बार रूसी हो जाने पर उसे खत्म कर पाना थोड़ा मुश्किल काम होता है। साफ-सफाई का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है और फिर भी बात न बने तो किसी त्वचा रोग विशेषज्ञ से सलाह लेना आवश्यक हो जाता है। इसके अलावा भी बहुत सारी ऐसी छोटी-छोटी बातें हैं, जिनका यदि ध्यान रखा जाए तो रूसी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। 
0 अपने बालों के साथ थोड़ी नरमी बरतें और ज्यादा कठोर कैमिकल और स्टाइलिंग प्रोडक्ट इस्तेमाल न करें। 
0 बाल यदि हमेशा रूखे रहेंगे तो भी उनमें रूसी हो सकती है, इसलिए हफ्ते में कम से कम एक बार तेल जरूर लगाएं।
0 महीने में कम से कम दो बार बालों को भाप जरूर दें। 
0 हमेशा एंटी डैंड्रफ शैम्पू का इस्तेमाल करें और बहुत अच्छे से बालों में से शैम्पू निकालें। 
0 अपना कंघा, तौलिया बिल्कुल अलग रखें और हफ्ते में एक बार कोई एंटीसेप्टिक डाल कर गर्म पानी में ठीक से 
जरूर धोएं। 
0 तनाव न पालें। मानसिक रूप से परेशान रहने पर हमारे सिर की तैलीय ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं और रूसी बनने लगती है।
0 पौष्टिक भोजन खाएं और दिन में कम से कम आठ या 10 गिलास पानी पिएं। 
0 बालों में दही, नीबू, मेथी का पेस्ट लगाने से भी रूसी की समस्या से छुटकारा मिलता है। 
0 यदि इन सब घरेलू उपायों के बाद भी समस्या ज्यों की त्यों बनी रहे तो त्वचा रोग विशेषज्ञ से मिल कर सलाह लेना ही समझदारी है।

(सरोज सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के डर्मेटोलॉजी विभाग के कंसल्टेंट डॉ. गौरव भारद्वाज से बातचीत पर आधारित)