cycling and health - साइकिल चलाएं सेहत बनाएं DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइकिल चलाएं सेहत बनाएं

साइकलिंग करने से आदमी का शरीर चुस्त और फुर्तीला होता है। इससे आप कई सामान्य बीमारियों से छुटकारा भी पा सकते हैं। साइकलिंग वातावरण को प्रदूषण मुक्त करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर आप वजन घटाने की सारी कोशिशें करके हार चुके हैं तो कुछ दिन साइकिल चलाकर देखें। फिट रहने की ख्वाहिश है तो साइकिल चलाना जल्द शुरू करें। विशेषज्ञ मानते हैं कि साइकलिंग से बेहतर कोई और व्यायाम होता ही नहीं। यानी अगर आप चुस्त और सक्रिय बने रहना चाहते हैं तो आज से ही साइकिल चलाना शुरू कर दें। जरूरी नहीं कि आप साइकिल चलाने के लिए अलग से समय निकालें। आप चाहें तो अपने रोजाना के कामों को पूरा करने के लिए ही साइकिल चला सकते हैं और इसका भरपूर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। 

कुछ देर साइकलिंग, ढेर सारे फायदे 
 

मजे से खाएं हाई कैलरी व्यंजन
ज्यादातर लोग समोसे, कचौड़ी या फिर पूरी खाने के शौकीन होते हैं या यूं कहें कि ज्यादा तला खाना उनकी आदत में शामिल होता है। मगर इससे बढ़ने वाला मोटापा हमारी चिंता का विषय बन जाता है। ऐसे में साइकिल एक ऐसा रामबाण इलाज है, जो हमारे शरीर में जमा कैलरी को आसानी से बर्न कर सकता है। नियमित साइकिल चलाने से हमें मोटापे समेत कई रोगों से मुक्ति मिल सकती है। खासकर सुबह की साइकलिंग आपको बेहद चुस्ती और फुर्ती का एहसास कराती है, सो अलग।

दिल को रखे सेहतमंद और सुरक्षित
अगर आप हर रोज कुछ देर के लिए भी साइकिल चला रहे हैं तो दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा खुद ब खुद कम हो जाता है। साइकिल चलाने से दिल की धड़कन तेज होती है और रक्त संचार बेहतर होने लगता है।

दे मांसपेशियों की मजबूती
साइकिल चलाने से पैरों का अच्छा व्यायाम हो जाता है, जिससे पैरों की मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। इससे हमारे शरीर के सभी अंग सक्रिय रूप से काम करने लगते हैं।

वजन घटाने का बेहतरीन उपाय 
नियमित रूप से साइकिल चलाकर आप कुछ ही दिनों में वजन कम कर सकते हैं। ये शरीर में मौजूद अतिरिक्त चर्बी को घटाने में मददगार है। रोजाना साइकिल चलाकर आप चुस्त और दुरुस्त शरीर पा सकते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है
रोजाना साइकिल चलाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। दरअसल साइकिल चलाने से रक्त संचार तेज होता है, जिससे त्वचा और कोशिकाओं यानी सेल्स को ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन और पोषक तत्व मिलते हैं। 

तनाव से राहत दिलाने में मददगार 
साइकिल की सवारी तनाव को कम करने में काफी हद तक लाभकारी है। विशेषज्ञों की मानें तो किसी भी खेल से तनाव को दूर करने में मदद मिलती है, मगर साइकिल से मानसिक तनाव के साथ शारीरिक तंदुरुस्ती भी बनी रहती है। इस कारण नियमित रूप से साइकिल चलाने वालों को अवसाद और तनाव की शिकायत होने की आशंका बहुत कम होती है।

कैंसर से करे बचाव
कैंसर जैसे रोगों से बचने के लिए साइकिल चलाना एक कारगर उपाय सिद्ध हो चुका है। विशेषज्ञों का मानना है कि साइकलिंग आंतों के कैंसर के खतरे को कम करती है। इससे दिल की धड़कन बढ़ती है और सांसें तेज चलती हैं, जिससे आंतों को लाभ होता है। 

दिमागी तौर पर रखे मजबूत
आंकड़ों की मानें तो नियमित साइकिल चलाने वाले लोगों का दिमागी स्तर आम लोगों की अपेक्षा 15 प्रतिशत ज्यादा बेहतर होता है। इसके अलावा आपके शरीर में नए ब्रेन सेल्स भी बनते हैं और लगातार साइकलिंग करने से आपका दिल भी सुरक्षित रहता है। 

डाइबिटीज से राहत दिलाए 
डाइबिटीज विभिन्न रोगों जैसे हृदय रोग, त्वचा रोग, नेत्र रोग, किडनी रोग और कई अन्य रोगों के लिए भी खतरा होता है। डाइबिटीज को नियंत्रित करने में साइकलिंग बहुत फायदेमंद हो सकती है, क्योंकि साइकिल चलाने से कोशिकाओं में उपस्थित ग्लूकोज कम या फिर समाप्त हो जाता है। फिर रक्त में उपस्थित ग्लूकोज को कोशिकाएं अवशोषित करके उपयोगी ऊर्जा में परिवर्तित कर देती हैं।

पाएं भरपूर नींद
शहरों में नींद कम आना एक आम समस्या है, मगर साइकिल चलाने से तनाव कम होता है, जिससे नींद खुद ब खुद बढ़ जाती है। सुबह जल्दी उठकर साइकिल चलाना थोड़ा सा थकान भरा जरूर हो सकता है, लेिकन शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है।

कैसा हो साइकिल चलाने वालों का भोजन
साइकिल चलाने वालों को पोषक तत्वों से भरपूर भोजन खाना चाहिए। ध्यान रखना चाहिए कि आप जो आहार ले रहे हैं, उसमें विटामिन, कैल्शियम और प्रोटीन की भरपूर मात्रा हो।

सुबह का नाश्ता
0 100 ग्राम जई का दलिया, अलसी का कुछ हिस्सा, गेहूं की दो रोटी, 300 मिलीग्राम मलाई रहित दूध।
0 250 मिलीलीटर ताजा फलों का जूस।
0 ब्रेकफास्ट करके, कुछ समय के अंतराल के बाद मौसमी फल और एक कप ग्रीन टी पीने से शरीर को ऊर्जा मिलती है।

दोपहर का भोजन
0 गेहूं की दो रोटियां, जिनमें जैतून का तेल लगा हो।
0 मुट्ठी भर सूखे मेवे, जिसमें कई तरह के मेवे शामिल हों।
0 खीरा, ककड़ी, चुकंदर और अन्य फलों से बना हुआ एक प्लेट सलाद।
0 एक कटोरी दही।

शाम का नाश्ता
शाम के वक्त नाश्ते में मुट्ठी भर सूखे मेवे खाने चाहिए और एक केले को 200 ग्राम दही में मिलाकर खाना चाहिए। इसके अलावा एक कप ग्रीन टी भी पी सकते हैं।

रात का खाना
0 रात के खाने में बासमती चावल, गेहूं का पास्ता, भुना हुआ या उबला हुआ आलू खाना चाहिए। 
0 ध्यान रखें कि आपके डिनर में हरी और मौसमी सब्जियां भी शामिल हों।
0 कम वसायुक्त और बिना चीनी मिलाया हुआ 200 ग्राम दही भी डिनर के साथ लेना चाहिए। अगर आपको कोई स्वास्थ्य समस्या हो तो डिनर में दही खाने का निर्णय डॉक्टर की सलाह से लें।
0 डिनर करने के एक घंटे बाद एक गिलास मलाई रहित दूध पिएं।

कुछ बातों का ध्यान रखें
साइकिल चलाने से पहले ज्यादा नहीं खाना चाहिए और साइकिल चलाने के तुरंत बाद भी खाना खाने से बचें। भरपूर मात्रा में पानी पीना चाहिए, जिससे साइकलिंग के वक्त पसीने के रूप में निकले पानी की पूर्ति की जा सके।

सुरक्षा की नजर से 
0 साइकिल चलाते हुए ज्यादा ढीले कपड़े पहनने से बचें, क्योंकि इससे साइकिल चलाने के दौरान कपड़े के साइकिल में फंसने का खतरा बना रहता है।
0 साइकिल चलाते वक्त अपने साथ पानी जरूर रखें, क्योंकि अधिक शारीरिक गतिविधि के कारण शरीर में पानी की मात्रा कम होने का खतरा बना रहता है।
0 इस दौरान हैलमेट पहनना न भूलें, क्योंकि यह सुरक्षा के लिहाज से बेहद जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cycling and health