class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहत : पहाड़ी टूटने से बंद बदरीनाथ हाईवे 26 घंटे बाद खुला, यात्रा फिर सुचारू

विष्णुप्रयाग के नजदीक हाथीपहाड़ में शुक्रवार को भूस्खलन से बदरीनाथ हाईवे ठप हो गया था। शनिवार को करीब साढ़े छह बजे मलबा हटाकर सड़क खोल दी गई है। करीब 26 घंटे तक हाईवे बंद रहा। सड़क खुलने के बाद बदरीनाथ की यात्रा सुचारू हो गई है।

रास्ता बंद होने से रातभर सैंकड़ों यात्री विभिन्न स्थानों पर फंसे रहे। भूस्खलन के बाद प्रशासन ने लोगों को रास्ते में ही रोक दिया था। पहले खबरें आ रही थी कि 15 हजार से ज्यादा यात्री फंसे हुए हैं, लेकिन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने साफ कर दिया कि यात्री सुरक्षित हैं। स्थिति चिंताजनक नहीं है। हां यात्रा रुकी हुई है और 1800 यात्री इससे प्रभावित हुए हैं। एनडीआरएफ की टीम राहत कार्य में जुटी थी। उधर, सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की टीम शुक्रवार से ही सड़क खोलने पर जुटी हुई थी। यहां मलबा हटाने के साथ ही बड़े-बड़े बोल्डर हटाने के लिए उन्हें ब्लास्ट से तोड़ा गया। हालांकि इस बीच बारिश के कारण सड़क खोलने में बाधा खड़ी हो रही थी। राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने बताया कि बदरीनाथ हाईवे खुल गया है। सबसे पहले बीआरओ के ट्रक को पार कराया गया। कुछ देर में पूरी तरह से मार्ग खोल दिया जाएगा। उधर, पुलिस यात्री वाहनों को पास कराने में जुट गई है। उधर, चमोली जिलाधिकारी आशीष जोशी यात्रा मार्ग खुलने तक मौके पर मौजूद रहे। उन्होंने बीआरओ, आर्मी, आईटीबीपी, पुलिस, सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को मार्ग खुलने पर बधाई दी। आयुक्त गढ़वाल मण्डल विनोद शर्मा ने भी घटना स्थल का दौरा किया। 

कल दोपहर तीन बजकर 23 मिनट पर हाथीपहाड़ में अचानक चट्टान टूट कर गिरने के बाद हाईवे का काफी हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था। यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर ठहराने का बंदोबस्त किया जा रहा था। उनके लिए खान-पान का पूरा इंतजाम था। उत्तराखंड में पिछले कई दिनों मौसम खराब है और चमोली में हो रही लगातार बारिश ने बदरीनाथ के यात्रियों की मुश्किलें बढ़ा दी है। चमोली जिले में लगातार हो रही बारिश यात्रियों के लिए मुसीबत बन गयी है। जोशीमठ से बदरीनाथ के बीच नेशनल हाईवे पहाड़ी दरकने से बंद हो गया है। 

उत्तराखंड मौसम: पौड़ी में मलबे में फंसी जीप, 5 साल की बच्ची लापता
 

सड़क खोलने के लिए युद्ध स्तर कार्य शुरू हो गया था। चमोली के डीएम आशीष जोशी ने बताया कि गुरुवार रात को बदरीनाथ क्षेत्र में बारिश हो रही थी। शुक्रवार को मौसम खुल गया। दोपहर बाद करीब साढ़े तीन बजे जोशीमठ से बदरीनाथ के बीच हाथी पहाड़ नाम जगह पर पहाड़ी दरकने लगी। देखते ही देखते मलबा और बड़े-बड़े बोल्डर सड़क पर गिरने लगे। इससे बदरीनाथ हाईवे बंद हो गया। सूचना पर पहुंची बीआरओ की टीम ने मार्ग खोलने का कार्य शुरू कर दिया है। इससे बदरीनाथ की यात्रा रुक गई है। चारधाम यात्रियों के लिए उत्तराखंड सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। बदरीनाथ मार्ग से लेकर यात्रा मार्ग की स्थिति की अपडेट इन नंबरों पर ली जा सकती है।

हेल्पलाइन नंबर
0135-2559898
0135-2552626
0135-2552627
0135-2552628 और 1364

badrinath yatra
प्रशासन के अनुसार सभी यात्री सुरक्षित स्थानों पर हैं। स्थानीय होटल संचालकों को यात्रियों से एक दिन का किराया न लेने के निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि बीते साल भी इस स्थान पर सड़क बाधित हुई थी। 2013 की आपदा में भी इसी स्थान पर भूस्खलन हुआ था। यहां ट्रीटमेंट की बात कही गयी थी, लेकिन ट्रीटमेंट सही से नहीं किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Badrinath yatra halts for 2 days due to landslide in vishnuprayag, 1800 tourist are effected
उत्तराखंड : उत्तरकाशी में इंदौर के चारधाम यात्रियों की बस गिरीराज्यों की खबरें: पढ़ें दिनभर की 10 बड़ी खबरें