class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल को हिन्दू राष्ट्र बनाने की कामना को लेकर यज्ञ शुरू

नेपाल को हिन्दू राष्ट्र बनाने की कामना को लेकर सोमवार को महारुद्राभिषेक यज्ञ का आयोजन किया गया। गरीबदासी आश्रम में महामंडलेश्वर स्वामी श्यामसुन्दरदास शास्त्री के सानिध्य में केंद्रीय अध्यक्ष चक्रदेव जोशी तथा प्रवासी संगठन भारत समिति के प्रमुख संयोजक डा. पद्मप्रकाश सुबेदी के संयोजन में आयोजन शुरू हुआ। इस अवसर पर 7 अगस्त को हरिद्वार से नेपाल तक यात्रा निकाले जाने का भी निर्णय लिया गया। इस 21 दिवसीय रुद्रमहायज्ञ में मुख्य अतिथि मेयर मनोज गर्ग ने कहा कि हिंदू राष्ट्र नेपाल का सशक्त होना भारत के हित में है। उन्होंने नेपाल को पुनः हिंदू राष्ट्र बनाये जाने के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि भगवान शिव की कृपा से ही नेपाल हिंदू राष्ट्र बनेगा। जो लोग इस अभियान में लगे हुए हैं, उन्हें भारत के समस्त हिंदुओं का मानसिक एवं भावनात्मक बल प्राप्त है। विशिष्ट अतिथि ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज के परिसर निदेशक डा. सुनील जोशी ने कहा कि भारत और नेपाल दोनों हिंदू बाहुल्य राष्ट्र है। इनमें सदियों से धार्मिक और सामाजिक एकता कायम रही है। नेपाल का हिंदू राष्ट्र बनना भारत एवं हिंदुओं के हित में है। महामंडलेश्वर स्वामी श्यामसुंदरदास शास्त्री ने कहा कि गरीबदासी सेवा आश्रम धर्मशाला भारत और नेपाल के मध्य विगत 75 वर्षों से समन्वय के सेतु के रूप में कार्यरत है। आश्रम में रहकर अब तक हजारों नेपाली संस्कृत और धर्म की शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं। नेपाल हिन्दू राष्ट्र बने इसके लिए भारत सरकार को भी प्रयास करने चाहिए। योगेश पांडे, स्वदेश कुमार चौधरी, आचार्य रविदेव शास्त्री, महंत दिनेशदास ने भारत के हिंदुओं से नेपाली हिंदुओं का इस पुनीत कार्य में साथ देने का आह्वान किया। 7 अगस्त को निकलेगी यात्राआयोजन के सूत्रधार चक्रदेव जोशी ने बताया कि नेपाल को पुनः हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए इस अभियान की शुरूआत महारुद्र यज्ञ के साथ हो रही है। सात अगस्त को उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी नेपाल के राजदूत दीप कुमार उपाध्याय, पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण एवं विशिष्टजन लालमाता वैष्णोदेवी गुफा वाले मंदिर से पशुपतिनाथ मंदिर के लिए यात्रा को रवाना करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the interest of India, becoming a Hindu nation of Nepal
शिव की आराधना से बदल जाता है भाग्यठेका हटवाने के लिए धरना जारी