class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नये उत्तराखंड के लिए नशा नहीं रोजगार जरूरी:स्वामी अग्निवेश

नये उत्तराखंड के लिए नशा नहीं रोजगार जरूरी:स्वामी अग्निवेश

बंधुआ मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष स्वामी अग्निवेश ने उत्तराखंड में बढ़ते नशे के धंधे पर गहरी चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि नये उत्तराखंड के लिए नशे की नहीं, रोजगार के अवसरों की जरूरत है। बताया कि कुमाऊं के विभिन्न क्षेत्रों से उन्होंने छात्रों के जरिये शराबबंदी की मांग को लेकर सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत को पत्र भिजवाए हैं। उन्होंने रामनाथ कोविंद को भारत के 14 वें राष्ट्रपति बनने पर बधाई दी। मंगलवार को दिल्ली लौटते वक्त हल्द्वानी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि 18 से 25 जुलाई तक वह अल्मोड़ा, बागेश्वर, कौसानी, कांडा आदि क्षेत्रों में छात्रों, ग्रामीणों को नशा, पशुबलि, जातिप्रथा, महिला सुरक्षा आदि मसलों पर जागरूक किया। उन्होंने बताया कि कुमाऊं में मजदूरों की स्थिति सुधार के लिए अल्मोड़ा और बागेश्वर में बंधुआ मुक्ति मोर्चा का गठन किया गया है। जल्द ही सभी जिलों में बंधुआ मुक्ति मोर्चा के लिए वकीलों की टीम बनायी जाएगी। स्वामी अग्निवेश ने कहा कि सांसदों, विधायकों और सरकारी कर्मचारियों का वेतन लगातार बढ़ रहा है, जबकि मजदूर वर्ग को दो जून की रोटी के लिए भटकना पड़ता है। उन्होंने कहा कि महिलाएं सुरक्षित होंगी तो विकास के रास्ते खुलेंगे। उन्होंने मंदिरों में पशुबलि बंद करने के साथ मुस्लिम समाज से भी पशु हत्या नहीं करने की अपील की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:No liquor employment needed for new Uttarakhand: Swami Agnivesh
उत्तराखंड के युवाओं के लिए रोजगार जरूरी, नशा नहीं: अग्निवेशनैनीताल में जिला प्रशासन और होटल मालिकों की बैठक