class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य कर्मचारियों ने किया आंदोलन का ऐलान, इस दिन से कार्य बहिष्कार

शासन की ओर से मांगों के निस्तारण पर कोई ठोस रुख न दिखाए जाने पर राज्य कर्मचारियों ने आंदोलन का ऐलान कर दिया है। परिषद की हाईपॉवर कोर कमेटी की बैठक में शासन के रुख की आलोचना करने के साथ ही आंदोलन की रणनीति बनाई गई।

विकास भवन में हुई बैठक में प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर प्रहलाद सिंह ने कहा कि सरकार कर्मचारियों के शोषण पर उतारु हो गई है। लगातार कर्मचारियों की उपेक्षा की जा रही है। वेतन विसंगति, एसीपी की पूर्व की व्यवस्था, यू हेल्थ कार्ड, कर्मचारी कल्याण निगम से जुड़ी मांगों का निस्तारण तो दूर कर्मचारियों की मांगों पर सुनवाई तक नहीं हो रही है। मुख्य सचिव के स्तर से एक बार भी वार्ता के लिए समय तक नहीं दिया जा रहा है। इसको लेकर कर्मचारियों में जबरदस्त आक्रोश व्याप्त है।

बैठक में तय हुआ कि सरकार की इस लापरवाही के खिलाफ प्रदेश स्तरीय आंदोलन किया जाए। 24 नवंबर तक मांगे न माने पर जाने पर 25 नवंबर से आंदोलन का बिगुल बजा दिया जाएगा। प्रदेश भर में कर्मचारी 25 से 30 नवंबर तक सुबह दस से दो बजे तक कार्य बहिष्कार पर रहेंगे।

एक दिसंबर से सात दिसंबर तक कर्मचारी पूर्ण कार्यबहिष्कार पर रहेंगे। इसी के साथ ही सरकार पर दबाव बनाने को एक दिसंबर से सात दिसंबर प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर प्रहलाद सिंह, महामंत्री प्रदीप कोहली, ओमवीर सिंह, पीएल बड़ोनी सचिवालय के सामने लगातार क्रमिक अनशन पर रहेंगे। प्रतिदिन मुख्य सचिव को सभी जिलों से ज्ञापन भेजे जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:State employee against govt
देहरादून मैराथन में इसबार इस्तेमाल होगी खास तकनीक, जानिएननूरखेड़ा में शिक्षा निदेशालय पर क्रमिक अनशन पर बैठे हैं बेरोजगार