class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसून की विदाई : इस बार उत्तराखंड को मानसून ने कम भिगोया 

Heavy rainfall

उत्तराखंड से मानसून की आधिकारिक विदाई हो गई है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार इस बार मानसून सामान्य रहा। सात फीसदी इस बार मानसून कम बरसा। लेकिन मौसम विज्ञान का मानना है कि ये एक सामान्य आकंड़ा है। 

मानसून इस बार ढाई माह रहा। कुछ जिलों में कम बरसा, लेकिन वह इतना भी कम नहीं कि काश्तकारों को नुकसान उठाना पड़े। इस बार सबसे कम सामान्य से -37 प्रतिशत तक पानी टिहरी में बरसा। जबकि सबसे ज्यादा पानी चमोली में बरसा। पूरे राज्य का औसत भी सामान्य से सात फीसदी कम रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के शोध में सामने आया है कि कुमाऊं के कई जिलों में सामान्य से 37 फीसदी तक ज्यादा पानी बरसा।

गढ़वाल में औसत से कम पानी बरसा। राज्य में सबसे ज्यादा बारिश इस बार चमोली में हुई। यहां 1124.8 एमएम पानी बरसा जो सामान्य से 37 प्रतिशत ज्यादा था। जबकि टिहरी जिले में सबसे कम पानी 673.6 एमएम पानी बरसा, जो सामान्य से -32 प्रतिशत है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि -19 से प्लस 20 तक अगर बारिश हो तो उसे सामान्य माना जाता है।

कहां कितनी बारिश

जनपद     एमएम    प्रतिशत कम-ज्यादा
अल्मोड़ा    854.9     07
बागेश्वर     1035.3    30
चमोली     1124.8     37
देहरादून    1616.6    06
पौड़ी          795.7     -31
टिहरी         673.6    -32
हरिद्वार        730.5    -20
नैनीताल     1523.8    -13
पिथौरागढ़    1421.4    -11
रुद्रप्रयाग      1318.4    -18
यूएसनगर    832.1      -21 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Monsoon rains in Uttarakhand in 2017
वाद- विवाद में कर्निका प्रथमपेट्रोल पंप पर 500 रुपये लेकर डाला 400 का तेल, ऐसे बचें घटतौली से