class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने संभाली नमामि गंगे प्रोजेक्ट की कमान

नमामि गंगे प्रोजेक्ट में नतीजे देने को लेकर केंद्र के साथ ही राज्य की भाजपा सरकार पर तेजी के साथ दबाव बढ़ रहा है। इस बढ़ते दबाव को देखते हुए पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने सीधे अपने हाथ में कमान लेते हुए जल निगम को तेजी के साथ नतीजे देने के निर्देश दिए। 

अभी तक गंगा सफाई के नाम पर राज्य में 129.548 करोड़ लागत के दस प्रोजेक्ट हरिद्वार, ऋषिकेश, तपोवन, देवप्रयाग, गोपेश्वर, जोशीमठ, बद्रीनाथ व गंगोत्री में पूरे हो चुके हैं। नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत दूसरी योजनाओं पर काम शुरू होने के साथ ही टेंडर प्रक्रिया को तेजी के साथ पूरा किया जा रहा है। बुधवार को ही दिल्ली में 171 करोड़ की हरिद्वार सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट प्रोजेक्ट को पीपीपी में देने का करार हुआ है।

पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि अब तेजी के साथ योजनाएं पूरी होंगी। दिसंबर 2018 तक गंगा सफाई से जुड़ी अधिकतर योजनाओं को पूरा कर लिया जाएगा। पेयजल मंत्री प्रकाश पंत का कहना है कि नमामि गंगे से जुड़े प्रोजेक्ट में लापरवाही व देरी किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अफसरों को साफ कर दिया गया है कि तय समय के भीतर शत प्रतिशत गुणवत्ता के साथ योजनाओं को पूरा किया जाए। प्रोजेक्ट की लगातार निगरानी की जाएगी। 

देश भर के लिए मॉडल बनेगा हरिद्वार प्रोजेक्ट 

देहरादून। हरिद्वार में 171 करोड़ की लागत से तैयार होने वाले सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट पूरे देश के लिए मॉडल बनेगा। इस प्रोजेक्ट में निर्माण करने वाली कंपनी को 40 प्रतिशत बजट काम पूरा होने पर दिया जाएगा। शेष 60 प्रतिशत बजट काम पूरा होने के बाद 15 वर्षों में निर्धारित मानकों को पूरा करने के बाद ही मिलेगा। इस तरह योजना शुरू होने तक राज्य सरकार को कोई भी पैसा नहीं देना होगा। ये प्रोजेक्ट मार्च 2019 तक पूरा किया जाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:minister Prakash Pant commanded Namli Gange Project
राहुल गांधी को सौंपें कांग्रेस की कमान, पीसीसी में प्रस्ताव पासVIDEO: माकपा दफ्तर पर हमले से गुस्साए कई दलों के कार्यकर्ता भाजपा के खिलाफ सड़कों पर उतरे