class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाल तस्करी रोकने के लिए एंट्री ट्रेफिकिंग लॉ बनाया जाए : कैलाश सत्यार्थी

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का कहना है कि बच्चों की सुरक्षा के लिए ठोस कानून बनाने की जरूरत है। बाल तस्करी रोकने के लिए एंट्री ट्रेफिकिंग लॉ बनाने के साथ ही हर जिले में विशेष अदालत बनाई जाए, ताकि बाल हिंसा से संबंधित मामलों का समय पर निस्तारण हो।

उत्तराखंड में सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू, ऐसे करें आवेदन

कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन की भारत बचाओ यात्रा शुक्रवार को देहरादून पहुंची। 11 सिंतबर को कन्याकुमारी से शुरू हुई यात्रा 23 राज्यों का भ्रमण कर दून पहुंची। यहां सुभाष चौक से ग्राफिक एरा विवि तक मार्च निकालकर सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत का संदेश दिया गया। विवि सभागार में आयोजित कार्यक्रम में शांति के नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने स्कूली बच्चों को सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत की शपथ दिलाई। उन्होंने कहा कि यात्रा का उद्देश्य बच्चों के साथ दुर्व्यहार, यौन शोषण, बाल तस्करी, बाल विवाह, भ्रूण हत्या रोकने के लिए जनजागरण के साथ ही सरकार को ठोस नीति बनाने के लिए सजग करना है। बच्चों की सुरक्षा के लिए व्यवहार में परिवर्तन के साथ ही नीतियों में परिवर्तन की भी जरूरत है। 

VIDEO : दून में कैलाश सत्यार्थी, जब बच्चों ने स्वागत में बरसाए फूल तो किया ये...

यात्रा में भाजपा नेता महेंद्र पांडेय, हितेश शंकर, एबीवीपी के पूर्व राष्ट्रीय महामंत्री श्रीहरि बोरिकर, कैलाश सत्यार्थी की पत्नी सुमेधा शामिल रहीं। इस मौके पर परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती, साध्वी भगवती, वित्त मंत्री प्रकाश पंत, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, महानगर अध्यक्ष उमेश अग्रवाल, यात्रा समन्वयक जया मिश्रा, बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष योगेंद्र खंडूड़ी, ग्राफिक एरा समूह के अध्यक्ष प्रो. कमल घनसाला, एडीजी अशोक कुमार, विशाल गुप्ता, उत्तराखंड संवैधानिक संरक्षण मंच के प्रदेश संयोजक दौलत कुंवर, प्रदेश प्रधान महासचिव संदीप कुमार पाल, प्रदेश महासचिव विजयपाल तंगानी, प्रदेश युवा अध्यक्ष एसवी शाही आदि मौजूद रहे।

चिंताजनक : उत्तराखंड में तेजी बढ़ रहा बालश्रम, चौंका देंगे ये आंकड़े

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kailash Satyarthi demands law to prevent child trafficking
दिवाली पर ट्रैफिक सुधार के लिए पुलिसवालों की छुट्टियां बंदआंदोलित ग्राम प्रधानों के आगे झुकी सरकार, अनशन समाप्त