class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देवताओं के गुरु बृहस्पति ने शुक्र राशि में किया प्रवेश, जानिए राशियों पर प्रभाव

देवताओं के गुरु कहे जाने वाले गुरु बृहस्पति का शुक्र की राशि में प्रवेश हो गया है। शुक्र दैत्यों के गुरु हैं। इस लिहाज से ज्योतिष की भाषा में बृहस्पति अपने शत्रुओं की राशि में आ गए हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बृहस्पति सबसे मजबूत और विशाल गृह है। यह बुधवार को कन्या राशि से निकलकर तुला राशि में आए हैं।

दिल खोल कर करें दान, कभी नहीं होगी धन्यधान की कमी

तुला राशि का स्वामी शुक्र है जो कि बृहस्पति ग्रह का शत्रु है। गुरु के सूर्य चंद्रमा व मंगल मित्र हैं। जबकि बुध-शुक्र शत्रु व शनि सम हैं। गुरु कर्क राशि पर उच्च व मकर राशि पर नीच प्रभाव डालता है। 27 सितम्बर 2005 को भी इसी तरह बृहस्पति ने तुला राशि पर प्रवेश किया था। उसके बाद 12 साल बाद बुधवार को इस संयोग की पुनरावृत्ति हुई। इस राशि पर गुरु 11 अक्तूबर 2018 तक रहेंगे।

तुला राशि पर संचरण काल में गुरु की कुंभ, मेष व मिथुन राशि पर पंचम, सप्तम व नवम शुभ दृष्टियां रहेगी। ज्योतिषाचार्य भरत राम तिवारी के अनुसार गुरु गृहस्थ सुख, संतान, विवेक बुद्धि, लीवर, पाचन तंत्र आदि का कारक माना जाता है। शासक वर्ग व विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप भरा वातावरण बना रहेगा। 14 सितम्बर से 30 जनवरी तक गोचर में कालसर्प योग रहने से विश्व के अनेक देशों में विद्रोह, युद्ध जन्य वातारण बनेगा। प्राकृतिक आपदा, आर्थिक मंदी के भी संकेत हैं।

ब्राह्मण ने कैसे तोड़ा राजा का घमंड, पढ़िए ये कथा

राशियों पर प्रभाव

मेष-सातवें घर में गुरु, शिक्षा में सफलता, साझेदारी में लाभ, पदोन्नति, विवाह का योग

वृष-छठें भाव में गुरु होने से शत्रु भय, उदर रोग, मानसिक तनाव मिथुन-पंचस्थ गुरु, लाभ, उन्नति होगी कर्क-चतुर्थस्थ गुरु, संसाधनों में वृद्धि, भूमि भवन का लाभ

सिंह-तृतीयस्थ गुरु, आकस्मिक धन का व्यय, शारिरिक कष्ट कन्या-द्वितीय भाव में गुरु, नवीन कार्य योजना बनेगी, संतान का सुख, धार्मिक कार्य में रुचि

तुला-लग्नस्थ गुरु, बंधु वर्ग से विरोध, खर्च बढ़ेगा, ज्ञान की वृद्धि वृश्चिक-द्वादश गुरु, खर्चा बढ़ेगा, खानपान में सावधानी, भूमि लाभ, मान सम्मान में वृद्धि

धनु-एकादश गुरु, वाहन सुख, विद्या में सफलता, विवाह का योग मकर-गुरु दशमस्थ, तनाव बढ़ेगा, स्वास्थ्य कष्ट, धन हानि, कार्य स्थल पर परेशानी

कुंभ-भाग्य स्थान में गुरु, शुभ फल प्राप्ति, छात्रों को कॅरियर में सफलता, संतान पक्ष से प्रसन्नता, विवाह का योग

मीन-अष्टमस्थ गुरु, ऋण व रोग का भय, विदेश यात्रा का योग, माता-पिता के स्वास्थ्य का कष्ट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Astrology : Guru Jupiter entered Venus
ये क्या! पाक को पटकनी देने वाली क्रिकेटर एकता बिष्ट को मंच से उतारापूरी सरकार सफाई अभियान में उतरी, उत्तराखंड को स्वच्छ बनाने का लिया संकल्प