class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोमुख ट्रैक पर पुलिया टूटने से पांच घंटे फंसे रहे कांवड़िए

गंगोत्री क्षेत्र में सोमवार देर रात को मूसलाधार बारिश के कारण गंगोत्री-गोमुख पैदल ट्रैक पर स्थित नदी नाले उफान पर आ गए। इससे गोमुख पैदल ट्रैक पर एक पुलिया बहने के साथ ही दो पुल क्षतिग्रस्त हो गए। इससे 72 कांवड़िये गोमुख ट्रैक पर ही फंस गए।  सूचना मिलने के बाद जिला प्रशासन, एसडीआरएफ सहित गंगोत्री राष्ट्रीय पार्क की टीम मौके पर  पहुंची और रेस्क्यू कर सभी कांवड़ियों को सुरक्षित निकाला।

गंगोत्री के रेंज अधकारी प्रताप पंवार ने बताया कि सोमवार को गंगोत्री से 150 कांवड़िये गंगा जल भरने गोमुख गए थे। इनमें अधिकांश यात्री देर शाम तक गोमुख से जल भर कर गंगोत्री लौट आए थे, लेकिन कुछ कांवड़िये देर से पहुंचने के कारण चीड़वास व भोजवास में ही रूक गए। देर रात  क्षेत्र में जमकर भारी बारिश हुई। जिसके चलते गोमुख ट्रैक पर हंगच्या खड्ड उफान पर आ गया और इस पर बनी पुलिया पानी के बहाव में बह गई।

जिससे गोमुख पैदल ट्रैक क्षतिग्रस्त हो गया। वहीं भारी बारिश के कारण देवराड़, चीड़वासा के पास भुजगडी में बनी पुलिया भी क्षतिग्रस्त हो गई। इससे 72 कांवड़िये गोमुख ट्रैक पर ही फंस गए। सूचना मिलने के बाद प्रशासन की ओर से सभी कांवड़ियों को भोजवासा में ही रोक दिया गया। इसके बाद मौके पर पहुंची एसडीआरएफ, पुलिस व गंगोत्री राष्ट्रीय पार्क की टीम ने वैकल्पिक पुलिया के सहारे सभी कांवड़ियों को सुरक्षित निकाला। रेंजर ने कहा कि दोपहर तक सभी कांवड़ियों को कनखू बैरियर तक सुरक्षित पहुंचा दिया गया था। जो मंगलवार तीन बजे गंगोत्री पहुंच जायेंगे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Due to heavy rains the bridge collapsed on gomukh trek
अलर्ट! देहरादून में स्वाइन फ्लू से दो और मौतें, इस वजह से फैल रही बीमारीविभाग के विलय को लेकर उद्यान कार्मिक ने जताया रोष