class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदरीनाथ यात्रा : पुलिस और एसडीआरएफ ने यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया

बदरीनाथ हाईवे बंद होने के कारण जहां-तहां ठहरे यात्रियों को उत्तराखंड पुलिस और एसडीआरएफ की टीमें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही हैं। कई यात्रियों को पैदल मार्ग से जोशीमठ लाया गया है। 
विष्णुप्रयाग के समीप शुक्रवार दोपहर पहाड़ी टूटने से बदरीनाथ हाईवे बंद हो गया था। इसके बाद जगह-जगह यात्रियों को रोक लिया गया। सूचना पर चमोली पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए मौके पर पुलिस बल रवाना किया। बदरीनाथ धाम आने-जाने वाले यात्रियों को लैंड स्लाइड जोन से काफी दूर रोका। यही नहीं पुलिस की ओर वाहनों के जरिए खाद्य सामग्री यात्रियों के लिए पहुंचाई जा रही है। पीने के पानी से लेकर चाय-नाश्ते का इंतजाम कराया जा रहा है। पुलिस ने यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। यात्रियों के लिए खाने का भी इंतजाम किया। वैकल्पिक पैदल रास्तों से कई यात्रियों को जोशीमठ और गोविंद घाट लाया गया। यही नहीं यात्रियों को पुलिस और प्रशासन की ओर से लगातार अपडेट जानकारी दी जा रही है। जगह-जगह शिविर लगाकर खाद्य सामग्री बांटी जा रही हैं। पुलिस की गाड़ियों से लगातार बिस्कुट पानी और जूस बाटे जा रहे हैं। एसपी चमोली तृप्ति भट्ट ने बताया कि पुलिस और एसडीआरएफ की टीम तत्परता से सहायता के काम में जुटी है। यात्रियों के लिए खाने और रहने के पर्याप्त इंतजाम कराए गए हैं। सभी यात्री सुरक्षित हैं।

जवानों ने की बुजुर्ग यात्रियों की मदद
एसडीआरएफ के जवान बुजुर्ग यात्रियों की मदद कर रहे हैं। पैदल मार्ग से यात्रियों को निकाला जा रहा है। कर्णाटक से आई एक बुजुर्ग महिला ने जब पैरों में दर्द की शिकायत की तो एक कांस्टेबल द्वारा उन्हें बाजार से दवाई ला लाकर दी गई। प्रशासन और पुलिस की टीम ने कई यात्रियों को स्कूल और नगर पालिका में रात्रि विश्राम कराया। 

गोविंदघाट गुरुद्वारे में यात्रियों की सेवा
गुरुद्वारा गोविंदघाट की ओर से भी स्थानीय पुलिस और प्रशासन पूरी सहायता दी जा रही है। रात्रि विश्राम और लंगर के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं। उधर, लैंड स्लाइड से आए मलबे को हटाने के लिए पुलिस, प्रशासन, एसडीआरएफ और बीआरओ की टीमें लगी हुई हैं। कल से युद्ध स्तर पर मलबा हटाने का काम चल रहा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Badrinath Travelers were taken to safe places by police and SDRF