class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चारधाम यात्रा :यहां यात्रियों के लिए मसीहा बनती है सेना, हर कदम पर खड़ी

उत्तराखंड में एक बार फिर मुश्किल के वक्त सेना मददगार साबित हुई है। बदरीनाथ हाईवे बंद होने के कारण मार्ग पर फंसे यात्रियों के लिए सेना ने विशेष इंतजाम किए हुए हैं। जोशीमठ में सेना की ओर से टेंट लगाए गए हैं। यहां यात्रियों के लिए खाने और ठहरने की पूरी व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा उत्तराखंड पुलिस भी तत्परता से यात्रियों की सेवा में जुटी हुई है। जानकारी के अनुसार जोशीमठ में सेना ने यात्रियों के भोजन और ठहरने के इंतजाम किए। देर रात तक सैकड़ों यात्री सेना के जोशीमठ कैंप में पहुंच चुके थे। बीआरओ के कमांडर आर सुब्रमण्यम ने बताया कि पहाड़ी से जो बोल्डर गिरे हैं, उन्हें विस्फोट से तोड़ने का काम शुरू कर दिया गया है। शनिवार शाम तक यातयात शुरू कर दिया जाएगा। 

पैदल मार्ग से निकाले जायेंगे यात्री
एसडीएम ने बताया कि विष्णुप्रयाग से ओएमपी तक के चार किमी पैदल मार्ग से गोविन्दघाट की ओर फंसे यात्रियों को निकाला जा रहा है। पैदल मार्ग में पुलिस दल तैनात कर दिया गया है। लेकिन, अंधेरा होते ही यह कार्य बंद कर दिया जायेगा। फिर शनिवार सुबह से यात्रियों को निकाला जाएगा।

केदारनाथ आपदा में रहा था सेना का बड़ा योगदान
चार साल पहले उत्तराखंड में भीषण आपदा के दौरान बाद सेना का योगदान सबसे सराहनीय रहा था। इसे संयुक्त रूप सबसे बड़ा बचाव अभियान बताया गया। यह वायु सेना और थल सेना का भी अपने अपने स्तर पर सबसे बड़ा बचाव और राहत अभियान रहा। सेना के जवानों ने राहत सामग्री पहुंचाने से लेकर जगह-जगह फंसे यात्रियों को बचाकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया था। इस अभियान में सेना का एमआई17 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इनमें वायु सेना के पांच जवानों के अलावा एनडीआरएफ और आईटीबीपी के जवान थे। इस अभियान के दौरान सेना को पहली बड़ी और स्तब्ध कर देने वाली क्षति पहुंची थी। 

चारधाम यात्रा पूरी तरह सुरक्षित : मदन कौशिक 
उधर, उत्तराखंड सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक का कहना है कि चारधाम यात्रा पूरी तरह सुरक्षित है। किसी भी यात्री को कोई नुकसान नहीं हुआ है। 1400 यात्री गोविंदघाट गुरुद्वारे में और करीब 500 यात्री पांडुकेश्वर में सुरक्षित रुकवा दिए गए हैं। राज्य सरकार ने कल सुबह सभी यात्रियों को जोशीमठ लाने का इंतजाम कर लिया है। दोपहर तक सड़क मार्ग से भी यात्रा सुचारू करने की तैयारी कर ली है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Army helped the Badrinath passengers in Joshimath
सगे भाइयों ने चुना सुसाइड का खतरनाक तरीका, जानकर रुह कांप जाएगीरुड़की : पिस्टल दिखाकर बदमाशों ने पेट्रोल पंप मालिक से 3.42 लाख लूटे