class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO सुर गंगा की 31वीं शाम...संगीत की त्रिवेणी में रसिकों ने लगाए गोते

1 / 5

2 / 5

3 / 5

4 / 5

5 / 5

PreviousNext

सुर, लय व ताल संग सुरगंगा प्रवाहित हुई। टाउनहाल मैदान में संगीत महोत्सव की 31वीं निशा में शास्त्रीय संगीत की रसधार में श्रोता डूबे रहे। अनूप के सुरों, मीनू के सितार व अतुल शंकर की बांसुरी ने आनंदित किया तो वहीं नुपुर ग्रुप के कलाकारों ने भरतनाट्यम शैली में दशावतारम् नृत्यनाटिका की भावपूर्ण प्रस्तुति की।

 यूनेस्को द्वारा आयोजित क्रिएटिव सिटीज नेटवर्क, नगर निगम एवं पहल संस्था की ओर से चल रहे सुरगंगा महोत्सव की  गुरुवार की शाम पं. ज्योतिन भट्टाचार्या को समर्पित रही। थीम सांग से आगाज के बाद संगीत की त्रिवेणी अपनी लय में प्रवाहमान हुई। शास्त्रीय संगीत की शाम में गायन, वादन और नृत्य से श्रोता देर रात तक मगन रहे। सांगीत के सफर की शुरूआत ध्रुपद वृन्द से हुई।  

आशीष जायसवाल ने ध्रुपद गायकी की शुरूआत राग भीम पलासी चौताल में निबद्ध बंदिश के से की। इसके बाद सूल ताल में निबद्ध रचना- शंभूशरण आयो... सुनाया। राग किरवानी में रचना पेश की। उनके साथ शालिनी शेखर, आशीष, आदित्य भण्डारी, श्रीप्रकाश, मोहिनी, अर्पिता, धीरज एवं अलंकृता ने गायन पर एवं आदित्य दीप ने पखावज पर साथ दिया। 

 

 

पं. अनूप मिश्र ने बनारस घराने की शास्त्रीय गायिकी पेश की। राग सरस्वती में विलम्बित रचना एक ताल में जगत जननी मातु भवानी..., मध्य लय तीनताल में निबद्ध परमेश्वरी शारदा... सुनाया। राग चारुकेशी में निबद्ध गुरु वन्दना- धर ध्यान गुरू चरणन में... पेश किया। उनके साथ सह गायन आर्यन मिश्र, तबले पर अमित मिश्र एवं हारमोनियम पर पंकज शर्मा ने संगत की। इसके बाद सरिता आर्या ने ठुमरी, दादरा की फुहार से सबको भिगोया। ज्योति यादव ने राग पीलू में कहरवा ताल  में दादरा-तोहे लेके संवरिया निकल चलबे... पेश कर वाहवाही लूटी। तबला पर अनंग गुप्ता एवं हारमोनियम पर कृष्णा ने संगत की। 

सुरों के साथ साज भी निखरे। डॉ. मीनू पाठक ने सितार की अद्वितीय प्रस्तुति से मोहित कर लिया। उन्होंने राग झिंझोटी में अलाप के बाद दो बंदिश व गायकी अंग की बंदिश सुनाकर मुग्ध किया। झाला की पुरानी धुन से समापन किया। तबले पर पुण्डरीक कृष्ण भागवत ने संगत की। अतुल शंकर ने बांसुरी की मधुर तान छेड़कर आनंदित कर दिया। राग चन्द्रकौंस, पहाड़ी धुन से समां बांधा।  बांसुरी पर रवि प्रजापति एवं तबले पर अमित ईश्वर ने संगत की। 
 

अंत में नुपुर ग्रुप के कलाकारों ने भरतनाट्यम शैली में दशावतारम् नृत्यनाटिका की भावपूर्ण प्रस्तुति की। समूह में रागेश्री, राजू, रवि आदि थे। नगर पुलिस अधीक्षक राजेश यादव मुख्य अतिथि रहे। संचालन अरविंद मिश्रा, जगदीश्वरी चौबे, अपूर्वा श्रीवास्तव, नेहा गुप्ता एवं प्रिंस प्रशान्त ने किया।

बाबुल सुप्रियो की सुरों पर आज झूमेगी काशी 
केन्द्रीय राज्यमंत्री एवं प्रख्यात पार्श्व गायक बाबुल सुप्रियो शुक्रवार को सुरगंगा संगीत महोत्सव में सुर साधेंगे तो काशीवासी झूमेंगे। वह टाउनहाल मैदान में शुक्रवार शाम किशोर कुमार व राहुल वर्मन को स्वराजंलि देंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the 31st evening of Sur Ganga, dancers planted in the tripe of music
सराफा कारोबारियों की बंदी से100 करोड़ का कारोबार ठपसुरगंगा में विनोद राठौर व साधना सरगम के सुर होंगे प्रवाहित