class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

​​​​​​​गोरखरपुर हादसा: बीआरडी में ऑक्सीजन की कमी से एक महिला की मौत

BRD Medical College

शासन और प्रशासन के तमाम दावों और दलीलों के बाद भी बीआरडी मेडिकल कॉलेज में मौतों का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कुशीनगर की फुलेसरा देवी की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई। फुलेसरा देवी के सिर पर गंभीर चोट आई थी जिसके बाद उन्हें शुक्रवार की शाम से ऑक्सीजन पर रखा गया था। 

शुक्रवार की रात से ऑक्सीजन का प्रेशर कम होने से मरीज की हालत बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें एम्बू बैग के सहारे ऑक्सीजन दी जा रही थी। इधर 33 मौतों पर सफाई देने आए मंत्रियों का दावा था कि किसी भी मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई। फुलेसरा देवी की मौत ने सरकार के दावों की हकीकत सामने ला दी है।

ठीक नहीं हुआ ऑक्सीजन प्लांट का प्रेशर
ऑक्सीजन की कमी से 36 घंटे में 33 मासूमों की मौत के बाद भी शनिवार को भी लिक्विड ऑक्सीजन का प्रेशर ठीक नहीं हो सका। मामला राज्य से होते हुए केन्द्र में जाने के बाद भी लिक्विड आक्सीजन की आपूर्ति पूरी तरह से बहाल नहीं हो सकी थी। 100 बेड वाले वार्ड में शनिवार को भी कई बेड पर एम्बू बैग से ही आक्सीजन दी जा रही थी। हालांकि दूसरी तरफ बीआरडी प्रशासन का कहना था कि आक्सीजन की आपूर्ति सामान्य हो गई है।

गोरखपुर हादसा:सीएम योगी ने कहा, ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई किसी की मौत

बाल रोग विभाग में 10 बच्चों की मौत
मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विभाग में शनिवार को भी मौतों का सिलसिला जारी रहा। बीते 24 घंटे में 10 मासूमों की मौत हो गई। इनमें से चार की मौत एनएनयू में हुई। इंसेफेलाइटिस से पीड़ित दो मासूमों ने भी दम तोड़ दिया। दूसरी अन्य बीमारियों से पीड़ित चार मासूमों की मौत बाल रोग विभाग में हो गई।

गोरखपुर हादसाः बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल आरके मिश्रा सस्पेंड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:one woman died due to lack of oxygen in brd medical college gorakhpur
फैसला: समायोजित शिक्षामित्र को 25 जुलाई तक अध्यापक का वेतन मिलेगाफरमान: पंचायत में छेड़छाड़ के आरोपी को लगवाए 11 जूते