class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर में खुलेगा यूपी बोर्ड का नया कार्यालय, जुलाई से शुरू होगा कामकाज

यूपी बोर्ड

यूपी बोर्ड का पांचवां क्षेत्रीय कार्यालय गोरखुपर में खुलेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले में क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की तैयारी लगभग पूरी हो गई है। माध्यमिक शिक्षा परिषद ने प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज दिया है। शासन की मंजूरी मिलने के बाद जुलाई 2017 से ही कामकाज शुरू हो जाएगा।

इस कार्यालय के अधीन गोरखपुर व देवीपाटन मंडल के चार-चार जिले और बस्ती के तीन जिले यानि कुल 11 जिले अधीन रहेंगे। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि इन तीन मंडलों के लोगों को अपने अंकपत्र या प्रमाणपत्र की डुप्लीकेट कॉपी निकलवाने या संशोधन करवाने के लिए वाराणसी तक की सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय नहीं करनी होगी।

स्कूलों को मान्यता समेत दूसरे काम के लिए भी गोरखपुर और आसपास के जिले के लोगों को दौड़ना नहीं पड़ेगा। फिलहाल यह कार्यालय गोरखपुर के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) से संचालित किया जाएगा। इसके लिए जिन कर्मचारियों की आवश्यकता पड़ेगी वे वाराणसी क्षेत्रीय कार्यालय से ट्रांसफर किए जाएंगे। 

बोर्ड मुख्यालय व अन्य क्षेत्रीय कार्यालय से यदि कोई कर्मचारी गोरखपुर जाना चाहेगा तो उन्हें भी भेजेंगे। 1985 के बाद के तीनों मंडलों के दस्तावेज वाराणसी क्षेत्रीय कार्यालय से गोरखपुर भेजे जाएंगे। भविष्य में डायट गोरखपुर परिसर में ही यूपी बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय की बिल्डिंग का निर्माण कराया जाएगा। 

वैसे तो क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की कवायद 2001 से ही चल रही है। लेकिन किसी सरकार ने इस प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी और फाइल धूल खा रही थी। विधानसभा चुनाव में भाजपा व सहयोगी दलों को बहुमत मिलने के बाद गोरखपुर में क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की चर्चा ने फिर जोर पकड़ लिया। 

इस बीच शासन ने ही यूपी बोर्ड मुख्यालय से नए क्षेत्रीय कार्यालय के संबंध में प्रस्ताव मांग लिया। चूंकि प्रस्ताव शासन ने ही मांगा है इसलिए पूरी उम्मीद है कि इसे जल्द मंजूरी मिल जाएगी और जुलाई 2017 से गोरखपुर क्षेत्रीय कार्यालय अस्तित्व में आ जाएगा। वर्तमान में यूपी बोर्ड मुख्यालय के अलावा इलाहाबाद, वाराणसी, मेरठ व बरेली में क्षेत्रीय कार्यालय हैं।

गोरखपुर क्षेत्रीय कार्यालय में शामिल जिले

यूपी बोर्ड के नए क्षेत्रीय कार्यालय में गोरखपुर मंडल के गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया व महराजगंज, देवीपाटन मंडल के गोंडा, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर और बस्ती मंडल के बस्ती, सिद्धार्थनगर व संत कबीरनगर जिले शामिल होंगे। फिलहाल ये सभी जिले बोर्ड के सबसे बड़े क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी के अधीन हैं।

इनका कहना है

गोरखपुर क्षेत्रीय कार्यालय के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा हैं। हमने पूरी तैयारी कर ली है। मंजूरी मिलने के बाद जुलाई 2017 से पांचवां क्षेत्रीय कार्यालय अस्तित्व में आ जाएगा।
शैल यादव, सचिव यूपी बोर्ड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:new office of up board will be open in gorakhpur