class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

योग की फुल ड्रेस रिहर्सल में नजर आया 'लघु लखनऊ'

-तीन बजे ही योग करने के लिये उठ गया था आधा शहर-मुख्यमंत्री और राज्यपाल भी व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे-लम्बे इंतजार के बाद सात से आठ बजे तक हुआ योगलखनऊ। वरिष्ठ संवाददाताकल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है। इसकी तैयारी के लिये राजधानी तैयार हो चुकी है। इस बार खास यह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ में रहेंगे और रमाबाई रैली स्थल पर लखनऊ वालों के साथ-साथ योग करेंगे। सोमवार को इस आयोजन की तैयारी के लिये फुल ड्रेस रिहर्सल की गई। जिसमें रमाबाई रैली स्थल पर सुबह-सुबह 'लघु लखनऊ' नजर आया।इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक भी यहां की व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे। करीब एक घंटे तक उन्होंने सभी अधिकारियों से जानकारियां लीं। खुद भी मंच के ऊपर से और फिर नीचे उतरकर मैदान में योग करने वालों के बीच तक जाकर कोई कमी न रह जाये इसका जायजा भी लिया।एक अजीब सा उत्साह देखते ही बना। तीन बजे से ही लोग सड़क पर निकल आये। जगह-जगह खड़ी सरकारी और प्राइवेट बसों में बैठकर वे रैली स्थल के लिये रवाना हुए। मैदान में प्रवेश के लिये अंतिम समय छह बजे तक रखा गया था। तब तक शहर के विभिन्न कोनों से बसों का आना जारी रहा। 21 जून को कुल 51 हजार 560 लोगों को प्रधानमंत्री के साथ रमाबाई रैली स्थल पर योग करना है। ऐसे में मुख्य दिवस पर व्यवस्था सही रहे। सबको उनकी जगह निर्धारित कर दी जाये। प्रोटोकॉल और अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी दे दी जाये इसलिये फुल ड्रेस रिहर्सल का आयोजन किया गया था। यह रिहर्सल अंतिम थी। इसलिये बिलकुल मुख्य दिवस जैसा ही माहौल शहर में देखने को मिला। भारी पुलिस बल, पेयजल, रिफ्रेंशमेंट और शौचालयों की वैसे ही व्यवस्था की गई जैसे 21 जून को होनी है। तीन बजे से घरों से निकले लोगों से छह बजे तक रमाबाई रैली स्थल खचाखच भर गया। कुछ कोने ही खाली नजर आये। जिसके लिये उनके इंचार्जों को उस दिन समय पर पहुंचने के लिये कहा गया। लोगों ने इस फुल ड्रेस रिहर्सल का पूरा आनन्द लिया और जिस तरह से निर्देश दिये गये थे उसका वैसे ही पालन करते नजर आये। ---------------------------------------------बसें रोक दी गई पहले, रैली जैसा दिखा माहौलआशियाना की तरफ से सुबह आई बसों के जाम से काफी लम्बी लाइन लग गई। आगे पहुंचने पर पता चला कि बसों को वहीं रुकवा दिया गया। वहां से योग करने वाले पैदल रमाबाई रैली स्थल की चल दिये। इस तीन से चार किलोमीटर तक लोगों को पैदल चलना पड़ा और यह नजारा पूरी तरह से रैली जैसा नजर आया। पुलिस ने आगे बसों का जाना यहां से ही रोक दिया था जिसकारण जाने और लौटने में लोगों को काफी चलना पड़ा और वो थक भी गये।------------------------------------------अव्यवस्थाओं का रहा बोलबालाजिला प्रशासन और पुलिस की ओर से कुछ अव्यस्थायें जरूर देखने को मिली। इसका कारण यह था कि उनको यह मालूम था कि यह रिहर्सल है। मैदान तक अपने वाहनों से पहुंचने वालों को जब अपने वाहन सड़क पर खड़े करने लगे तो उनको प्यार से बोलने की जगह कुछ पुलिसकर्मी अभद्रता करते नजर आये। जिससे योग करने आने वाले नाराज भी हुये। उधर, जिला प्रशासन की भी कई कमियां नजर आई। जब कार्यक्रम समाप्त हुआ और लोग परिसर से बाहर निकले तो गेट पर पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से हट गया जिसकारण काफी भीड़ हो गई और धक्कामुक्की की नौबत हो गई।-------------------------------------------भगदड़ हो जाती तो बड़ा हादसा हो सकता थायोग की रिहर्सल समाप्त होने के बाद जब लोग निकले तो हर गेट पर इतनी भीड़ जुट गई कि पैदल चलना मुश्किल हो गया। इस भीड़ में महिलायें, लड़कियां, लड़के, पुरुष, बुजुर्ग और स्कूली छात्र-छात्राएं दब गईं। इससे लोगों में काफी नाराजगी भी दिखायी दी। लोग बोलने पर मजबूर हो गये कि भगद़ड़ हो जाये तो कई लोग दब जायेंगे। प्रशासन और पुलिस ने यहां महिलाओं और पुरुषों के निकलने की अलग-अलग व्यवस्था नहीं की थी। ---------------------------------------------मंच से दिये गये आवश्यक निर्देश-प्रतिभागियों को टीर्शट पहननी है-निर्धारित जगह पर निर्धारित समय पर पहुंचना है-मैट आज नहीं आयोजन वाले दिन लेकर जाना है-साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना है-प्रवेश से पहले जूते या चप्पल बैग में रख लें --------------------------------------------------लम्बे इंतजार ने योग करने आये लोगों को थकायाआधी रात से जगे लोगों को फुल ड्रेस रिहर्सल का इंतजार था लेकिन उनको यह नहीं मालूम था कि लम्बा समय लग जायेगा और उनको बोझिल लगने लगेगा। आंखे झुकने के साथ लम्बा पैदल चलना सबको खल गया। आयोजन वाले दिन छह से सात बजे तक आयोजन होना है। जबकि सोमवार को सात बजे से आठ बजे तक योग कराया गया। इससे पहले सारा समय व्यवस्थाओं को पूरा करने में ही लग गया।------------------------------------------------नाश्ते के लिये हो गई मारामारीजिला प्रशासन की ओर से योग की रिहर्सल में भाग लेने आये प्रतिभागियों के लिए कार्यक्रम समाप्ति के बाद नाश्ते का इंतजाम किया गया था। जिसे लेने के लिए निकली भीड़ में मारामारी मच गई। वहां तैनात सरकारी कर्मचारी भी व्यवस्थाओं को नहीं संभाल पाये। कई लोगों में तो इसको लेकर धक्कामुक्की तक हुई। योग करने आए दर्जनों प्रतिभागियों को बिना नाश्ता लिए ही वापस लौटना पड़ा। ----------------------------------------------सुबह से ही आशियाना और शहीद पथ पर लगा जामयोगाभ्यास करने के लिये पहुंचे लोगों को कैसे पहुंचना हैं। कहां वाहन खड़े करने हैं इसको लेकर सब असमंजस में थे। व्यवस्थाओं में भी कमियां थीं जिसकारण योग स्थल पर पहुंचने और कार्यक्रम समाप्ति के बाद लौटने पर आशियाना की ओर जाने वाले मार्ग पर और शहीद पथ पर काफी लम्बा जाम लग गया। लोग काफी देर तक इस जाम में फंसे रहे।-------------------------------------------------पानी की पेटी तक उठा ले गए लोगप्रतिभागियों को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए मैदान के सभी गेटों पर जिला प्रशासन की ओर से पानी की बोतलें रखावाई गई थीं। जिसे बांटने के लिए सभी स्टॉलों पर लोग भी तैनात किए गए थे। परन्तु अव्यवस्थाओं की स्थिति यह रही की अभ्यास खत्म होने के बाद लोग पानी की बोतलों से भरी कई पेटियां तक उठा ले गए। --------------------------------------------------रमाबाई रैली स्थलसुबह 5:34 संचालक ने बोलना शुरू कियासुबह 5: 56 मुख्यमंच पर गहमागहमी सुबह 6: 20 प्रधानमंत्री की शुभकामना का वीडियो चलासुबह 6:30 संचालक ने जरूरी निर्देश दियेसुबह 6:52 मुख्यमंत्री मुख्यमंच पर पहुंचेसुबह 6: 55 राज्यपाल मुख्यमंच पर पहुंचेसुबह 7: 05 योग का अभ्यास शुरू हुआसुबह 7: 12 मुख्यमंत्री व्यवस्था देखने मंच से नीचे मैदान में आयेसुबह 7: 48 योग का समापन हुआ----------------------------------------------------
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:yog
शहर के 467 जगहों से रवाना होंगी योग स्पेशल बसेंयूपी ने राष्ट्रीय सीनियर हॉकी चैंपियनशिप ए-डिविजन में झारखंड को 3-2 से हराया