class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांवों की सात लाख कच्ची गलियां पक्की होंगी

गांवों की सात लाख कच्ची गलियां पक्की होंगी मुख्य सचिव के निर्देश -ग्राम स्वराज अभियान में 52 करोड़ के कार्य पारदर्शिता सुनिश्चत करें -एक लाख हैंडपंपों को रिबोर और मरम्मत करा दिये जायें-ऑनलाइन परिवार रजिस्टर की नकल दिसंबर 2018 तक देंराज्य मुख्यालय। प्रमुख संवाददातामुख्य सचिव राजीव कुमार ने राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान में केंद्र से मिली 52 करोड़ रुपये की पहली किस्त के कार्यों में पारदर्शिता सुनिश्चित करने को कहा है। ग्राम पंचायत विकास योजना के तहत राज्य की करीब सात लाख कच्ची गलियां प्राथमिकता के आधार पर पक्की कराई जायेंगी। मुख्य सचिव ने शुक्रवार को शास्त्री भवन सभागार में राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान की पंचायत स्टेट एग्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक में निर्देश दिये कि गांवों में लगे एक लाख हैंडपंपों के रिबोर तथा मरम्मत, आंगनबाड़ी तथा विद्यालयों के करीब 3.40 लाख शौचालयों की मरम्मत का काम 31 मार्च तक पूरा कर लिये जायें। उन्होंने कहा कि आम जनता के परिवार रजिस्टरों के डिजिटलाइजेशन का कार्य तेजी से किया जाये। पायलट प्रोजेक्ट के पांच जिले-गाजीपुर, बहराइच, मेरठ, इटावा तथा बांदा में जून 2018 तक यह कार्य पूरा कर लिया जाये। शेष जिलों के रजिस्टरों को डिजिटल हर हाल में दिसंबर 2018 तक पूरा करना होगा। आम जनता को परिवार रजिस्टर की नकल ऑनलाइन उपलब्ध करानी है। मुख्य सचिव ने 25 जिला पंचायती राज प्रशिक्षण केंद्रों को दो माह के अंदर शुरू कराकर पंचायत प्रतिनिधियों तथा संबंधित कार्मिकों का प्रशिक्षण समय सारणी के मुताबिक कराने का निर्देश दिया। दस जिलों में परफार्मेंस आडिट तथा दस फीसदी ग्राम पंचायतों में सोशल आडिट कराने का निर्देश भी दिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव पंचायती राज चंचल तिवारी, निदेशक पंचायती राज विजय किरण आनंद, सचिव वित्त एमपी अग्रवाल उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Village
सुलह से अगले साल शुरू होगा राममंदिर का निर्माण: शिया बोर्डबस अड्डे का टिकट काउंटर बंद, यात्री परेशान