class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटीएस ने तीन बांग्लादेशी युवकों को लखनऊ से गिरफ्तार किया

उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन से तीन बांग्लादेशी युवकों को गिरफ्तार किया। तीनों सगे भाई हैं। तीनों ने अवैध रूप से भारत में रहने की बात स्वीकार की है। उनके पास से नकली आधार कार्ड भी बरामद हुआ। एटीएस इस बात का पता लगा रही है कि क्या इनके संबंध किसी आतंकी समूह से हैं।
गिरफ्तार किए गए तीनों युवक मोहम्मद इमरान, रजीदुद्दीन व मो. फिरदौस पुत्र अब्दुल खालिक बांग्लादेश के जसौर जिले को कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित छितिगड़ा पंतवाड़ा के रहने वाले हैं। एटीएस के एएसपी राजेश साहनी और डीएसपी दिनेश पुरी की टीम ने लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर घेराबंदी करके तीनों को हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस से उतारा। पूछताछ में उन्होंने स्वयं के बांग्लादेशी होने और भारत में अवैध रूप से निवास करने की बात स्वीकारी की। उनके पास से नकली आधार कार्ड बरामद हुआ, जो गलत नाम पते से बनवाया गया था। इसी आधार पर उनकी गिरफ्तारी की गई। एटीएस ने गुरुवार को तीनों को कोर्ट में पेश किया। 
एटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि एटीएस की टीम ने गत 6 अगस्त 2017 को आतंकी संगठन अंसारुल्ला बांग्ला टीम के एक आतंकी और बांग्लादेश के रहने वाले अब्दुल्लाह अल मामून को मुजफ्फरनगर जिले के कुटेसरा क्षेत्र से गिरफ्तार किया था। अब्दुल्लाह से पूछताछ में उसके अन्य साथियों के नाम भी प्रकाश में आए। उनकी तलाश में गत 12 सितंबर को देवबंद स्थित कई मदरसों में पूछताछ की गई। इस दौरान सूचना मिली कि एक मदरसे से 3 लड़के (एक अध्यापक व उसके दो भाई) भाग गए हैं। इसी सूचना के आधार पर तीनों की तलाश की जा रही थी। अब एटीएस के विवेचक मनीष सोनकर तीनों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेंगे कि वे अचानक देवबंद छोड़ कर क्यों भागे? क्या इनके किसी आतंकी समूह से संबंध हैं?

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Three Bangladeshi youth arrested from Lucknow
निलम्बन के बदले नहीं दी जा सकती क्षतिपूर्तिविजय नामधारी ने उर्मिल थपलियाल से सीखी अभिनय की बारीकियां