class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहकारी गन्ना समितियों की चल अचल सम्पत्ति की होगी मैपिंग, अवैध कब्जे हटवाए जाएंगे

विशेष संवाददाता-राज्य मुख्यालयप्रदेश की सभी सहकारी गन्ना विकास समितियों की चल और अचल संपत्ति की अब मैपिंग करवाई जाएगी। इन समितियों की जमीनों पर काबिज लोगों को भू-माफिया करार देते हुए उनका सारा ब्यौरा शासन की वेबसाइट jansunwai.up.nic.in के एन्टी भू-माफिया पोर्टल पर डाला जाएगा। यह निर्देश गन्ना समितियों के निबंधक और गन्ना आयुक्त संजय भुसरेड्डी ने दिए हैं। उन्होंने राज्य की सहकारी गन्ना विकास समितियों की संपत्तियों को अनाधिकृत तत्वों द्वारा किए गए अतिक्रमण से कब्जामुक्त कराने के लिए सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि गन्ना समितियों के संपत्तियों की सूची, रजिस्टर तैयार कराएं। संपत्तियों को राजस्व भू-अभिलेखों में दर्ज करवाते हुए समिति, जिले और मण्डलवार मैपिंग करवाई जाए ताकि समिति संपत्तियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने कहा कि प्रत्येक गन्ना समिति की सभी संपत्तियों -कार्यालय परिसर,आवासीय परिसर, खाद गोदाम, प्रांगण, खुला मैदान, कृषि फार्म आदि अचल सम्पत्तियों का पूरा विवरण अंकित कराकर उनके नाम के अनुसार प्रतीक, चिन्हों, संकेताक्षरों में भिन्न-भिन्न रंगों से चिन्हित कराया जाए। साथ ही समितियों की संपत्तियों के जिले और मण्डल स्तरीय नक्शे तैयार किए जाएं। गूगल मैप पर इन्हें अंकित कराया जाए। वह सघन अभियान चलाकर विभाग के ऐसी संपत्तियों का चिन्हांकन कर लें, जिन पर भू-माफियाओं का कब्जा है। चिन्हांकन के समय भू-माफिया का पूरा नाम, पता व मोबाइल भी एकत्रित करते हुए इनके विरूद्ध शासन की वेबसाइट jansunwai.up.nic.in पर एन्टी भू-माफिया पोर्टल पर आनलाइन शिकायत दर्ज करवाई जाए। एसडीएम व जिलाधिकारी को सीधे उपलब्ध कराते हुए भू-माफिया की भांति एन्टी भू-माफिया टास्क फोर्स के माध्यम से कब्जामुक्त कराने की कार्रवाई कराईं जाए। सूचना की एक प्रति गन्ना आयुक्त कार्यालय को भी उपलब्ध कराई जाय।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sugercan
पूर्वांचल विवि के रजिस्ट्रार निलंबितप्रोबेशनर अफसरों को राज्यपाल ने पढ़ाया जनसेवा का पाठ