class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलरामपुर में फर्जी दस्तावेजों से नौकरी पाने वाले सात शिक्षक बर्खास्त

बलरामपुर में सात शिक्षक बर्खास्त, मुकदमा भी होगा कार्रवाई हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के फर्जी मार्कशीट लगाकर नौकरी पाने का मामला बीएसए ने सेवा समाप्त कर प्राथमिकी दर्ज कराने की शुरू की प्रक्रिया आरोपी शिक्षकों ने नोटिस का नहीं दिया था जवाब बलरामपुर। हिन्दुस्तान संवाद परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत सात शिक्षकों का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट अंकपत्र सत्यापन में फर्जी पाये जाने पर बीएसए ने उन्हें बर्खास्त कर दिया। सभी आरोपी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज भी दर्ज कराया जा रहा है। सहायक अध्यापक पद पर चयन के लिए अभ्यर्थियों की ओर से लगाये गये शैक्षिक प्रमाणपत्रों की विभाग ने जांच करायी थी। जिसमें कई लोगों के सीबीएसई बोर्ड से हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के लगाऐ गए अंकपत्र फर्जी पाये गये थे। इन शिक्षकों को नोटिस भेजकर जवाब दाखिल करने का मौका दिया गया था। जवाब न दाखिल होने पर बीएसए रमेश यादव ने गुरुवार को जिले के सात शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया। फर्जी अभिलेखों के सहारे नौकरी करने वालों में प्राथमिक विद्यालय महिला जंगली उतरौला की सहायक अध्यापिका शालिनी पांडेय, प्रा.वि. बिजौरा माफी की स.अ. राजकुमारी सिंह, शिक्षा क्षेत्र शिवपुरा के प्रा.वि. ठाकुरदीनपुरवा के रामजी यादव, प्रा.वि. सुगानगर लहेरी के सौरभ, प्रा.वि. विशुनपुर बढ़ईपुरवा के अमित पांडेय, शिक्षा क्षेत्र पचपेड़वा के प्राथमिक विद्यालय वीरपुर सेमरा के अर्पित मिश्रा व तुलसीपुर शिक्षा क्षेत्र के प्रा.वि. विजईडीह के कमल सिंह नटवर शामिल हैं। यह सभी सात शिक्षक बीटीसी शिक्षक चयन प्रक्रिया में सहायक अध्यापक पद पर तैनात हुए थे। बीएसए रमेश यादव का कहना है कि सभी बर्खास्त शिक्षकों के विरुद्ध मुकदमा भी दर्ज कराया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Seven teachers dismissed from fake documents in Balrampur
दवा कम्पनी के कर्मियों ने बकाया भुगतान मांगाबरेली मण्डल के किसानों ने कहा-गन्ना ज्यादा, फसल अच्छी चीनी मिलें अक्टूबर में ही चलें