class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहीद पथ से एयरपोर्ट तक नई सड़क का प्रस्ताव भेजा

लखनऊ में शहीद पथ से एयरपोर्ट को जोड़ने वाले वैकल्पिक मार्ग के लिए इसके लिए बनी कमेटी ने प्रस्ताव तैयार कर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को सौंप दिया है। प्राधिकरण की सहमति मिलने पर यह नई सड़क बनाने का काम शुरू होगा। राज्य के सभी मंडलों से हवाई सेवा शुरू करने के लिए मंडल में स्थित हवाई पट्टियों को बिना किसी तामझाम के एयरपोर्ट के रूप में विकसित किया जाएगा। निदेशक नागरिक उड्डयन से मॉडल इस्टीमेट बनाने को कहा गया है। मुख्य सचिव राजीव कुमार की अध्यक्षता में हुई एयरपोर्ट की समीक्षा बैठक में राज्य के सभी एयरपोर्टों के विकास पर चर्चा की गई। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण से अपेक्षा की गई कि प्रस्ताव पर तत्काल निर्णय लेकर निदेशक नागरिक उड्डयन को बताए। प्राधिकरण की सहमित बनने पर इसके लिए प्राधिकरण की भूमि को पीडब्ल्यूडी को लंबी अवधि की लीज पर दिया जाएगा। इस मार्ग के लिए निजी भूमि राज्य सरकार खरीदकर पीडब्ल्यूडी को देगी। जिसके पश्चात इस सड़क का निर्माण होगा। पांच सौ करोड़ से होगा रनवे का विस्तार यह भी फैसला किया गया कि ग्राम भक्तिखेड़ा में विमानपत्तन प्राधिकरण की भूमि पर अवैध रूप से रह रहे करीब दो सौ परिवारों को विस्थापित करने के लिए जिलाधिकारी एक महीने में कार्ययोजना तैयार करेंगे। विस्थापितों को सरकारी आवास उपलब्ध कराने पर विचार किया जा सकता है। लखनऊ एयरपोर्ट रनवे के विस्तार के लिए प्रस्तावित 16.59 एकड़ भूमि के लिए 500 करोड़ रुपये की व्यवस्था कने पर चर्चा हुई। कहा गया कि प्राधिकरण खुद यह आंकलन करे कि उसके पास कितनी ऐसी भूमि है जिसका उपयोग नहीं है। इस भूमि को बेचकर कितनी धनराशि मिल सकती है। लखनऊ एयरपोर्ट से जल निकासी की समस्या के समाधान के लिए समिति का गठन किया गया। वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार वाराणसी एयरपोर्ट के विस्तार के लिए 350 एकड़ जमीन खरीदी जानी है। इस पर करीब छह हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा। निर्णय लिया गया कि जिलाधिकारी इसके लिए धनराशि का आंकलन कर एक माह में बताएंगे। वाराणसी में ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट विकसित करने के लिए 3000 एकड़ जमीन चिह्नित करने के पुराने निर्णय पर चर्चा हुई। वाराणसी, भदोही और जौनपुर के जिलाधिकारियों से वर्तमान एयरपोर्ट के समानांतर 3000 एकड़ भूमि चिन्हित करने तथा कितनी धनराशि की जरूरत होगी इसका आंकलन करने को कहा गया। आगरा सिविल एन्क्लेव एयरपोर्ट इस एयरपोर्ट के लिए 55.29 हेक्टेयर जमीन के लिए 153.67 करोड़ रुपये वहां के जिला प्रशासन को उपलब्ध करा दी गई है। जिलाधिकारी आगरा से कहा गया कि जमीन की खरीद शीघ्र करें और प्राधिकरण को हस्तांतरित करें। आगरा के इस सिविल टर्मिनल के शिलान्यास का लक्ष्य दिसंबर 2017 तय किया गया। इलाहाबाद सिविल एन्क्लेव एयरपोर्ट इस एयरपोर्ट के लिए जरूरी भूमि 30.39 हेक्टेयर के लिए 289 करोड़ की धनराशि जिलाधिकारी इलाहाबाद को दी जा चुकी है। निर्णय लिया गया कि जिलाधिकारी सभी पक्षों से समन्वय स्थापित करते हुए भूमि खरीदने की कार्यवाही करें। विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा कराए जा रहे कार्यों की निरंतर देखरेख करने को भी कहा गया। इस सिविल टर्मिनल के लोकार्पण का लक्ष्य अक्तूबर 2018 तय किया गया। सेना की 7.7 हेक्टेयर भूमि के लिए जिलाधिकारी इलाहाबाद तथा निदेशक नागरिक उड्डयन से समन्वय के साथ कार्यवाही करने को कहा। कानपुर सिविल एन्क्लेव एयरपोर्ट इस एयरपोर्ट के लिए जरूरी 50 एकड़ भूमि के लिए जिलाधिकारी को 82.24 करोड़ शासन से जिलाधिकारी को दिया जा चुका है। निर्णय लिया गया कि जिलाधिकारी सभी पक्षों से बात करते हुए जमीन खरीदने की कार्यवाही करें। इस सिविल टर्मिनल के शिलान्यास का लक्ष्य दिसंबर 2017 तय किया गया। बरेली सिविल एन्क्लेव एयरपोर्ट निर्माण इस एयरपोर्ट के लिए जरूरी 13.395767 हेक्टेयर जमीन 60.89 करोड़ रुपये में खरीदकर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को दिया जा चुका है। जिलाधिकारी बरेली से यह अपेक्षा की गई कि प्राधिकरण द्वारा कराए जा रहे निर्माण कार्य का अनुश्रवण करते रहें। एयरपोर्ट पर सिविल एन्क्लेव की चारदीवारी जो टेढ़ी मेढ़ी हो गई है उसे सीधा करने के लिए2.27 हेक्टेयर अतिरिक्त भूमि खरीदने का प्रस्ताव प्राधिकरण द्वारा जिलाधिकारी के माध्यम से दिया गया। इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया। गोरखपुर एयरपोर्ट विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा प्रस्तावित किया गया है कि गोरखपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए एयरपोर्ट से लगी 60 एकड़ भूमि की जरूरत है। जिलाधिकारी से कहा गया कि वह एक महीने में इस जमीन को चिन्हित कर आख्या दें। कुशीनगर एयरपोर्ट कुशीनगर एयरपोर्ट से लुम्बिनी, सारनाथ को जोड़ते हुए बुद्धिष्ट सर्किट तैयार करने के लिए कंसल्टेंट की नियुक्ति का निर्णय हुआ। नागरिक उड्डयन विभाग और पर्यटन विभाग से कहा गया कि कंसल्टेंट नियुक्त कर रिपोर्ट लें और सुझाव प्राप्त करें। इसके बाद आगे की कार्यवाही करें। जेवर ग्रीन फील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट नोएडा इस एयरपोर्ट के लिए जरूरी भूमि खरीदने, भूमि का चयन करने तथा उसकी लागत का आंकलन करने का फैसला हुआ। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण द्वारा जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर से समन्वय कर तत्काल काम करने को कहा गया। भूमि की खरीद के लिए अनुपूरक बजट के माध्यम से धनराशि की व्यवस्था की जाएगी। यह भी कहा गया कि निदेशक नागरिक उड्डयन द्वारा डेवर एयरपोर्ट के लिए की जाने वाली कार्यवाही की सूची तैयार की जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Send a new route proposal from Shaheed Path to Airport
राजकीय सम्प्रेक्षण गृह से भागे अभियुक्त को पुलिस ने पकड़ाप्रदेश के विकास का संयुक्त एक्शन प्लान तैयार करें अफसर