class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या मुद्दे पर पांच दिसम्बर से फिर से सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

पांच दिसम्बर से फिर गरमाएगा अयोध्या मुद्दाविशेष संवाददाता,राज्य मुख्यालय। आगामी पांच दिसम्बर से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर एक बार फिर सुनवाई होगी। विवादित स्थल के मालिकाना हक पर हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ के फैसले पर स्टे के बाद पांच दिसम्बर से सुप्रीम कोर्ट इस प्रकरण की सुनवाई शुरू करेगा। यह सुनवाई रोजाना चल सकती है।मुसलमानों की तरफ से यूपी सेण्ट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड के साथ कुल छह पक्षकार हैं। बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जीलानी के अनुसार हाफिज सिद्दीकी के निधन के बाद उनके प्रतिनिधि के तौर पर मौलाना अशद रशीदी, हाशिम अंसारी के निधन के बाद उनके बेटे मो. इकबाल, फारूख अहमद के निधन के बाद उनका बेटा, मिस्बाहुददीन और महफूजुर्रहमान भी शामिल हैं। इनका पक्ष सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल, राजीव धवन और दुष्यंत दुबे रखेंगे। हिन्दुओं की तरफ से मुख्य पक्षकारों में भगवान रामलला विराजमान, गोपाल सिंह विशारद और निर्मोही अखाड़ा हैं। रामलला विराजमान की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सीएस वैद्यनाथन पेश होंगे तो गोपाल सिंह विशारद के पुत्र राजवेन्द्र सिंह विशारद की ओर से उनके वकील अपना पक्ष रखेंगे। निर्मोही अखाड़ा से वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत लाल वर्मा और हिन्दु महासभा की ओर से हरिशंकर जैने पेश होंगे। एक अन्य प्रमुख पक्षकार रामजन्म अस्थान भी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sc
रजत कॉलेज फ्रेशरएपी सेन मेमोरियल गर्ल्स कॉलेज