class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुलह से अगले साल शुरू होगा राममंदिर का निर्माण: शिया बोर्ड

विशेष संवाददाता,राज्य मुख्यालय। उत्तर प्रदेश शिया सेण्ट्रल वक्फ बोर्ड ने उम्मीद जतायी है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण आपसी समझौते से अगले साल शुरू हो जाएगा।

बोर्ड के अध्यक्ष सैय्यद वसीम रिजवी ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि उनका बोर्ड रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद मामले को आपसी समझौते से हल करने के लिए सक्रिय है। इस मामले में सभी आवश्यक पक्षकारों से बात भी कर ली गयी है। श्री रिजवी ने प्रदेश सरकार की तरफ से अयोध्या में भगवान राम की भव्य मूर्ति की स्थापना के प्रस्ताव की सराहना करते हुए कहा कि एशिया में इस सबसे बड़ी मूर्ति की स्थापना से प्रदेश का गौरव पूरे विश्व में बढ़ेगा। उन्होंने कहा है कि अवध के नवाबों ने अयोध्या स्थित मंदिरों का सम्मान किया। नवाब शुजाउददौला ने हनुमान गढ़ी मंदिर के लिए वर्ष 1739 से 1754 के बीच अयोध्या स्थित भूमि दी थी। इसके बाद नवाब शुजाउद्दौला ने 1775 से 1739 के बीच हनुमान गढ़ी मंदिर के निर्माण के लिए आर्थिक सहयोग किया।

श्री रिजवी ने फिर दोहराया कि विवादित स्थल पर मस्जिद का निर्माण इस्लाम के सिद्धांतों के विपरीत है। उन्होंने इतिहास का हवाला देते हुए कहा कि अयोध्या में ही वाजिद अली शाह के जमाने में एक अन्य मस्जिद के विवाद में सैय्यद मोहम्मद नसीराबादी और फरंगीमहल से फतवा जारी हुआ था जिसमें कहा गया था कि विवादित स्थल पर मस्जिद बनाया जाना इस्लाम के सिद्धांतों के खिलाफ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ram mandir
भू-मानचित्रों को डिजिटल करने के लिए 521 करोड़ स्वीकृति का फैसलागांवों की सात लाख कच्ची गलियां पक्की होंगी