class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरमान: अब बेटा-बेटी की शादी में नहीं शामिल हो सकेंगे कैदी, जानिए क्यों ?

 फरमान: अब बेटा-बेटी की शादी में नहीं शामिल हो सकेंगे कैदी, जानिए क्यो ?

शासन के अड़ंगे से आदर्श कारागार के कैदी बेटी व बेटे की शादी में शामिल नहीं हो सकेंगे। छुट्टी के लिए शासनादेश की बाट जोह रहे कैदी असमंजस में हैं। सहालग का मौसम सिर पर है, ऐसे में शासन की हरी झंडी न मिलने पर कैदी मायूस हो गए हैं। ऐसे तकरीबन सौ से ज्यादा कैदी हैं जिन्हें बेटी व बेटी के लिए रिश्ता ढूंढ़ना था या फिर शादी में शरीक होना था।

छुट्टी मिलने पर वह दिवाली भी परिवार के साथ मनाने का मूड बना चुके थे। अब इन कार्यक्रमों पर शासन का ग्रहण लग गया है। निराश कैदियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से होम लीव की मंजूरी के साथ ही पेरोल की मंजूरी देने की गुहार की है। कैदी पुनर्वास योजना के तहत स्थापित की गई देश की इकलौती आदर्श जेल के कैदियों को होम लीव (गृह अवकाश) दिए जाने का प्रावधान है। एडीएम की अध्यक्षता में गठित कमेटी की संस्तुति के बाद शासन कैदियों को 15 दिन के होम लीव की मंजूरी देता है। इस दौरान कैदी बच्चों की शादी के साथ घरेलू काम काज के साथ त्योहार आदि में शामिल होते हैं। अमूमन मई-जून के माह में करीब 150 कैदियों को होम लीव की स्वीकृति मिल जाती थी।

जून महीने में कमेटी की रिपोर्ट जाने के बाद भी शासन ने कैदियों की होमलीव को मंजूरी नहीं दी। ऐसे में कैदियों का बेटे व बेटी की शादी में शामिल होने का सपना पूरा नहीं हो पाएगा। जेल के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के एक मुल्जिम श्रीहरन उर्फ मुर्गन के रिहाई के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सरकार को रिहाई के पूर्व सजा देने वाली सक्षम अदालत से मंजूरी लेनी होगी। 

पेरोल पर भी लगायी रोक
शासन के अड़ंगें की वजह से सूबे की सेंट्रल व जिला जेलों के कैदियों को पेरोल भी नहीं मिल पा रही है जबकि दूसरे प्रदेशों में बराबर कैदियों को पेरोल दिया जा रहा है। पेरोल के तहत कैदी को जेल से बाहर जाने के लिए एक ठोस वजह और कारण बताना होता है। कैदियों को कस्टडी पेरोल और रेग्युलर पेरोल दिए जाने की व्यवस्था है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Now the prisoner can not join their son daughter marriage
सुलतानपुर : बैंक अकाउंट से निकाल लिये 2.92 लाख UP: प्राइवेट प्रैक्टिस करते पाए गए तो डॉक्टर के साथ नर्सिंग होम पर भी होगी कार्रवाई