class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भरतनाट्यम के कीर्तनम ऐ गिरि नन्दनी पर थिरके कदम

निर्मल कला मंदिर की ओर से संगीत नाटक अकादमी स्थित संत गाडगे प्रेक्षगृह में सोमवार को शास्त्रीय नृत्य भरतनाट्यम व संगीत के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। नृत्य कार्यक्रम के लिए 25 प्रतिभागियों ने अपनी गुरू ऊषा सक्सेना से इस कार्यक्रम के लिए आयोजित कार्यशाला के दौरान प्रशिक्षण लेकर प्रस्तुति दी। संगीत कार्यक्रम ओंकार व आनन्द शंखधर द्वारा किया गया। गणेश वन्दना से शुरू हुये कार्यक्रम में भरतनाट्यम समूह नृत्य के अन्तर्गत कीर्तनम ऐ गिरि नन्दनी पर मनमोहक प्रस्तुति दी गयी। इसके साथ साथ कलाकारों ने अपने गुरू के साथ मिलकर दशावतार,गुरू स्तोत्रम गुरूर ब्रह्मा गुरूर विष्णु...,वर्णम के साथ साथ अलवेला सजन,मन मोहिनी व अन्य एकल गीतों को भी नृत्य से सजाया। नृत्य प्रस्तुति में सौम्या वर्मा, प्रथम, अजितेश, विधि, आकृति, नव्या, हर्षिता,अन्नया,शरवरी,शिवानी,ओजसी,सफलता,मान्या,मौली,छवि,सौम्या शुभांगी,वेदिका सहित कुल 25 प्रतिभागियों ने अपनी नृत्य प्रतिभा का परिचय दिया। संगीत की प्रस्तुति के अन्तर्गत अनूप जलोटा के शिष्य ओंकार शंखधर व आनन्द शंखधर ने ऐसी लागी लगन व मेरे राणा जी मै गोविन्द गुणगाना,सरीखे भजनों को अपनी आवाज दी। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान से किया गया।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nirmal nritya kala minder
आचंलिक विज्ञान नगरी में साइंस सर्कस आजआज भी बूंदाबांदी के आसार