class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाली प्लाट के मालिकों का कटेगा चालान

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता प्लाट खरीदकर खुला छोड़ने वालों की अब खैर नहीं। नगर निगम ने प्जाट मालिकों के नाम व पता खोजना शुरू कर दिया है। गंदगी के लिए उनके खिलाफ चालान काटा जाएगा। दिए गए समय के भीतर चहारदीवारी नहीं बनाई तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। स्वच्छ भारत अभियान में कालोनियों में खुले प्लाट बड़ी बाधा बन रहे हैं। लोग वहां कूड़ा फेंक रहे हैं। सफाईकर्मी भी आसपास का कूड़ा वहीं फेंककर चले जा रहे हैं। गत दिनों इंदिरानगर के पटेलनगर व हरिहर नगर में हुए दौरे के दौरान नगर विकास मंत्री सुरेश खान्ना को खाली प्लाटों बड़ी मात्रा में गंदगी देखने को मिली थी। जलभराव से मच्छरों के पनपने का मुख्य कारण भी दिखा। उन्होंने नगर आयुक्त उदयराज सिंह ने खाली प्लाट मालिकों को नोटिस भेजने व चालान काटने का आदेश दिया था। नगर निगम ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। अकेले इंदिरागनर में ऐसे प्लाटों की संख्या 20 हजार से ज्यादा है। लोग प्लाट खरीदकर उसकी कीमत बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं। गोमतीनगर, विकासनगर, जानकीपुरम, राजाजीपुरम आदि लगभग सभी इलाकों में खाली प्लाट स्वच्छता अभियान में रोड़ा बने हुए हैं। प्लाटों के चारों ओर चहारदीवारी न होने से कूड़ा फेंकना आसान है। इन कालोनियों में निजी सफाईकर्मी या बंग्लादेशी घर-घर कूड़ा उठाकर खाली प्लाटों में डालकर चले जा रहे हैं। वहां दिनभर अवारा जानवरों की समस्य अलग है। बारिश में जलभराव से मुसीबत और बढ़ रही है। मंत्री ने ऐसे सभी प्लाटों को चिह्नित कर चहारदीवारी बनाने के के बाद प्लाटों में कूड़ा फेंकने पर अंकुश लग सकता है। ----------- खाली प्लाटों का सर्वे कराया जा रहा है। नाम व पता इकट्ठा होने पर सभी को नोटिस भेजी जाएगी। इसके बाद चालान व अन्य कानूनी कार्रवाई की शुरुआत होगी। गंदगी फैलाने पर 10 हजार रुपए जुर्माना भी वसूला जा सकता है। उदयराज सिंह, नगर आयुक्त।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kitega invoice of owners of empty plot
एलडीए से गायब हो गईं समायोजन घोटाले की फाइलेंधान के सरकारी खरीद केन्द्रों की संख्या बढ़ेगी