class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कामकाम-सचिवालय पास बगैर कर्मचारी मुद्दे पर नहीं हो रही बात

लखनऊ। निज संवाददाता कर्मचारियों की समस्याएं शासन में बैठे अधिकारियों के कानों तक न पहुंचे इसलिए यूनियन नेताओं को सचिवालय प्रवेश पास जारी करने पर रोक लगा दी गई है। बगैर पास कर्मचारियों की ज्वलंत समस्याओं को लेकर यूनियन के पदाधिकारी अपनी आवाज शासन तक पहुंचाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। परिवहन विभाग के मिनिस्ट्रियल सर्विस एसोसिएशन के अध्यक्ष व महामंत्री को हमेशा कर्मचारी मुद्दे पर वार्ता करने के लिए सचिवालय पास जारी होता रहा है। इस बार प्रमुख सचिव स्तर से उनके पास जारी करने में अड़ंगा लगा दिया गया। इस बात से नाराज एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर अध्यक्ष व महामंत्री का सचिवालय प्रवेश पत्र जारी करने की मांग की है। इस मामले में मिनिस्ट्रियल सर्विस एसोसिएशन के अध्यक्ष अश्विनी कुमार उपाध्याय ने बताया कि छह महीने से सचिवालय प्रवेश पत्र जारी नहीं किए गए हैं। कई बार इसके लिए शासन को पत्र भी लिखा गया, लेकिन न कोई जवाब मिला और न ही प्रवेश पत्र ही जारी किए गए। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश सचिवालय पास नीति 2016 के अनुमन्य मिनिस्ट्रियल सर्विस एसोसिएशन के अध्यक्ष व महामंत्री का सचिवालय प्रवेश पत्र 2017 पूर्व की तरह निर्गत किए जाने का कई बार अनुरोध किया जा चुका है। उन्होंने प्रमुख सचिव, उत्त्तर प्रदेश शासन से सचिवालय प्रवेश पत्र शीघ्र जारी करें ताकि कर्मचारियों की समस्याओं को शासन में अपना पक्ष रख सकें। प्रमुख सचिव परिवहन को लिखे पत्र में कहा गया है कि शासन स्तर पर प्रशासकीय विभाग द्वारा जानबूझकर ऐसोसिएशन के अध्यक्ष व महामंत्री का प्रवेश पत्र जारी किए जाने में रुकावट लगाई जा रही है। उन्होंने बताया कि अगर जल्द ही प्रवेश पत्र जारी नहीं हुआ तो एसोसिएशन आंदोलन करने को बाध्य होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kamkam-Secretariat employees have no point without point
...सोचती हूं अब घर बसाना चाहिएमुख्य सचिव ने सर्वे आयुक्त वक्फ से मांगी कब्रिस्तानों की चाहरदीवारी की रिपोर्ट