class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कठौता झील में पहुंचा पानी, शाम को इन्दिरानगर में हुई सप्लाई

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

कठौता झील में मंगलवार को पानी पहुंचा गया। पानी के आने के बाद शाम को जल कल विभाग ने इन्दिरानगर में पानी की सप्लाई भी शुरू करा दी। रात के करीब आठ बजे के बाद गोमतीनगर के लिए भी एक पम्प चला दिया गया। जल कल के अधिकारियों ने बुधवार से इन्दिरानगर व गोमतीनगर में पूरी तरह पानी संकट खत्म होने का दावा किया है।

15 अक्तूबर से इन्दिरा नहर से कठौता झील को पानी नहीं मिल पा रहा था। झील में जो पानी स्टोर था उसी से सप्लाई की जा रही थी। तीन दिन पहले कठौता में स्टोर पानी भी लगभग खत्म हो गया था। इससे इन्दिरानगर व गोमतीनगर में जल संकट खड़ा हो गया था। सबसे ज्यादा संकट इन्दिरानगर में रहा। जल कल ने पानी की सप्लाई के लिए जगह जगह टैंकर लगवाए थे लेकिन इससे दिक्कत कम नहीं हो पा रही थी।

मंगलवार को झील में पानी पहुंचने के बाद जल कल ने राहत की सांस ली। शाम को झील में लगे पम्प चला दिए गए। इनसे सीधे इन्दिरानगर में पानी की सप्लाई करायी गयी। शाम को लोगों को पर्याप्त पानी मिलने का विभाग ने दावा किया।

-------------------------

इन्दिरानगर में सुबह रहा भीषण संकट

इन्दिरानगर में सुबह पानी का संकट सबसे ज्यादा रहा। यहां लोगों को पीने भर का पानी भी नहीं मिल पाया। जल कल के टैंकर भी काफी देर से पहुंचे। सबसे ज्यादा दिक्कत ए ब्लाक में लोगों को हुई। जल कल विभाग ने ए, बी,सी व डी ब्लाक में टैँकर लगवाने की बात कही थी लेकिन स्थानीय निवासियों के मुताबिक तीन जगहों पर टैंकर में पानी ही नहीं था। जो टैंकर सोमवार को लगाए गए थे उसमें दोबारा पानी ही नहीं भरा गया। जबकि सात स्थानों पर टैंकर काफी लेट पहुंचे। जिससे सुबह जरुरत के वक्त लोगों को पानी नहीं मिला। कुछ लोग आस पास से जैसे तैसे पानी का इंतजाम कराया। सेक्टर 16, 17 व 21 में भी लोगों को सुबह पानी का संकट झेलना पड़ा।

---------------------------

कठौता झील में अपरान्ह् बाद पानी आ गया। शाम को झील से पानी की सप्लाई भी करा दी गयी। दो घंटे में ही इन्दिरानगर में पानी का संकट खत्म हो गया। गोमतीनगर में भी एक पम्प से सप्लाई करायी गयी। बुधवार से सप्लाई पूरी तरह से सामान्य हो जाएगी।

बीएन मिश्रा, अधिशासी अभियन्ता, जलकल विभाग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jal kal
प्रदूषण नियंत्रण खस पौधा प्रौद्योगिकी से संभव : डॉ. लवानियारायबरेली : बस-ट्रक की भिड़ंत में तीन मकान क्षतिग्रस्त