class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टैक्स गड़बड़ियों में फंसे लखनऊ बीएसए, आयकर छापा

- कई सरकारी योजनाओं में अरबों रुपये के भुगतान पर नहीं काटा टीडीएस

आयकर विभाग ने लखनऊ के बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में छापा मारा। विभाग ने अरबों रुपये के भुगतान के बाद भी टीडीएस की कटौती नहीं की। 17 अक्टूबर को बीएसए लखनऊ प्रवीण मनी त्रिपाठी को व्यक्तिगत तौर पर आयकर विभाग ने तलब किया है।

सहायक आयकर आयुक्त (टीडीएस) शिव कुमार के नेतृत्व में आयकर अफसरों की एक बड़ी टीम ने शुक्रवार सुबह यह कार्रवाई की। आयकर विभाग को कर न कटने और टैक्स चोरी की शिकायतें मिल रही थीं। आयकर की गोपनीय जांच में इन तथ्यों की पुष्टि होने के बाद छापे की कार्रवाई की गई।

आयकर अधिकारियों ने छापे के दौरान बीएसए और वहां मौजूद सभी अधिकारियों-कर्मचारियों से आय-व्यय और लेखा के बारे में पूछताछ की। सभी जरूरी दस्तावेजों को भी जब्त कर लिया गया। आयकर अधिकारियों को प्राथमिक जांच में पता चला कि एमडीएम, सर्व शिक्षा अभियान और भवन निर्माण जैसे कामों में करोड़ों रुपये के भुगतान दिखाए गए हैं। इनमें टैक्स की कटौती नहीं हुई है। बीएसए के यहां जांच में कई तरह की गड़बड़ियां सामने आईं हैं। अब टीम इनकी विस्तृत जांच करेगी।

शाम तक चले छापेमारी के बाद जब्त दस्तावेजों-कागजों के साथ टीम रवाना हो गई। 17 अक्टूबर को बीएसए को इस संबंध में जवाब दाखिल करने के लिए सम्मन किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:income tax raid on BSA
एमएसडीपी के तहत गाजियाबाद के राजकीय इंटर कालेजों को मिले एक करोड़ 42 लाखपेंशनर्स कल्याण संस्था ने वृंदा स्वरूप से की मुलाकात