class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रोबेशनर अफसरों को राज्यपाल ने पढ़ाया जनसेवा का पाठ

राज्यपाल राम नाईक ने बुधवार को वर्ष 2015 बैच के प्रोबेशनर पीसीएस अफसरों को जनसेवा का पाठ पढ़ाया। उन्होंने कहा कि ईमानदारी से अपना दायित्व निभाते हुए जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की कोशिश करें। राजभवन में उत्तर प्रदेश राज्य सिविल सेवा (कार्यकारी शाखा) के 40 परिवीक्षाधीन अधिकारियों से मुलाकात के दौरान श्री नाईक ने कहा कि नियम विरूद्ध काम न करें क्योंकि हजारों आंखे अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों को देखती हैं। नियमानुसार कार्य करने से व्यक्ति की प्रमाणिकता बढ़ती है। उन्होंने नियमसंगत काम तत्परता से करने तथा नियम विरूद्ध कार्य के लिए कुशलता से मना कर देने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि अपने अधीन सरकारी निर्माण में समय और लागत का विशेष ध्यान रखें। राज्यपाल ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों की दिनचर्या व्यस्त होती है इसलिए आने वाले कल की तैयारी पूर्व में करें। कार्य समय से पूरा करें। इससे स्व-मूल्यांकन में आसानी होगी। अपने क्षेत्र में कार्य संस्कृति ऐसी बनाएं जिसमें जनता का हित व समय प्रबंधन का विशेष महत्व हो। अधीनस्थ कर्मचारियों के प्रति व्यवहार कुशल बनें। उन्होंने अधिकारियों को सफलता प्राप्ति के चार मंत्र बताते हुए कहा कि सदैव मुस्कुराते रहें, दूसरों की सराहना करना सीखें, दूसरों की अवमानना न करें, अहंकार से दूर रहें तथा हर कार्य को अधिक अच्छा करने पर विचार करें। राज्यपाल ने अधिकारियों को अपने तीसरे वार्षिक कार्यवृत्त ‘राजभवन में राम नाईक 2016-17 की प्रति भी भेंट की। अफसरों ने राज्यपाल के साथ अपना फोटो सेशन कराया तथा राजभवन का भ्रमण भी किया। इस दौरान उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबंधन अकादमी लखनऊ के महानिदेशक कुमार अरविन्द सिंह देव, प्रमुख सचिव राज्यपाल जूथिका पाटणकर, सचिव राज्यपाल चन्द्र प्रकाश, अकादमी के अपर निदेशक रमाकांत पाण्डेय व संजय कुमार यादव भी मौजूद रहे। वर्ष 2015 बैच के ये अफसर 24 जुलाई से 12 सप्ताह की ट्रेनिंग पर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Governor Ram Naik met probationer officers
सहकारी गन्ना समितियों की चल अचल सम्पत्ति की होगी मैपिंग, अवैध कब्जे हटवाए जाएंगेकैंट एसओ को नोटिस जारी की