class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सितम्बर तक 33 हजार स्वच्छाग्रहियों का चयन करें: राजीव कुमार अगले साल 2 अक्तूबर तक सभी जिलों को खुले में शौच से

-अगले साल 2 अक्तूबर तक सभी जिलों को खुले में शौच से मुक्त कराने का लक्ष्यप्रमुख संवाददाता / राज्य मुख्यालयप्रदेश सरकार के सभी जिलों को अगले साल दो अक्तूबर तक खुले में शौच से मुक्त कराने के संकल्प को पूरा करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए इसी साल सितम्बर तक 33 हजार स्वच्छता वालेंटियर का चयन करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्य सचिव राजीव कुमार ने ये निर्देश देते हुए कहा कि शौचालय बनाने के लिए राजमिस्त्रियों और मैनपॉवर को चिन्हित कर उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था करा ली जाए। प्रदेश में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) योजना के क्रियान्वयन के लिए मुख्य सचिव राजीव कुमार की अध्यक्षता में 'शीर्ष समिति' गठित है। इसमें अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज चंचल कुमार तिवारी, अपर मुख्य सचिव वित्त अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव, चिकित्सा व स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रशान्त कुमार त्रिवेदी, सचिव वित्त एम.पी. अग्रवाल और सचिव संतोष कुमार यादव सचिव महिला कल्याण सदस्य हैं। बैठक में बताया गया कि अब तक 21 हजार स्वच्छता वालेंटियर का चयन कर लिया गया है। उनको प्रशिक्षित करने की प्रक्रिया जारी है। इसके अलावा ग्राम स्तर पर निगरानी समिति भी काम कर रही है। यह समिति बच्चों से लेकर बुजुर्गों के खुले में शौच करने से रोकने के लिए हतोत्साहित कर रही है। बैठक में बताया गया कि शौचालय निर्माण के लिए राजमिस्त्रियों के प्रशिक्षण के लिए हर जिले में पांच-पांच मास्टर ट्रेनर भी प्रशिक्षित किए गए हैं। हर जिले में कम से कम 100 से 500 प्रशिक्षित राजमिस्त्री कार्यरत हैं, जिनके माध्यम से गांवो में शौचालय निर्माण कार्य किया जा रहा है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CS
पीजीआई की न्यू ओपीडी में लग रही एस्क्लेटरलखनऊ चिड़ियाघर में बुजुर्ग शेरनी की मौत