class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी में स्वच्छता अभियान के हकीकत की होगी परख

प्रमुख संवाददाता- राज्य मुख्यालय यूपी में चल रहे स्वच्छता अभियान की हकीकत परखी जाएगी। इस दिशा में अब तक कितने काम हुए। व्यक्तिगत व सामुदायिक शौचालय में मिली धनराशि से कितना काम हुआ और अब तक कितने बनाए जा चुके हैं। मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने 30 जून को राज्य स्तरीय उच्चाधिकार समिति (एसएचपीसी) की बैठक बुलाई है। केंद्र सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की है। इसके तहत खुले में शौच को बंद कराना है। केंद्र सरकार ने राज्यों को सामुदायिक व व्यक्तिगत शौचालय बनाने के लिए पैसे दिए हैं। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में होने वाली एसएचपीसी की बैठक में अब तक की प्रगति की समीक्षा की जाएगी। इसके लिए निकायों से पूरा विवरण मांगा गया है। उनसे पूछा गया है कि व्यक्तिगत व सामुदायिक शौचालय बनाने के लिए कितने का प्रस्ताव भेजा गया। निकायों को पूर्व में दी गई धनराशि में कितना खर्च हुआ है। इसके अलावा लक्ष्य के सापेक्ष अब तक कितना काम हो चुका है। प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट के तहत झांसी नगर निगम द्वारा प्रस्तुत 15 करोड़ के प्रस्ताव पर केंद्र से मिले पैसे के बारे में समीक्षा की जाएगी। इसके अलावा प्रदेश में व्यक्तिगत शौचालय के निर्माण के लिए राज्यांश की प्रोत्साहन राशि बनाने पर भी विचार होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Cleanliness campaign will be tested
आईएएस संजय भूसरेड्डी ने ज्वाइनिंग दी, मुख्यमंत्री से मिलेरा्ज्यपाल ने लोकायुक्त की विशेष रिपोर्ट पर सरकार से स्पष्टीकरण मांगा