class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरों के जादू से बाल कलाकारों ने बिखेरा जलवा

सोल्डर-संगीत नाटक अकादमी गोमतीनगर के ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया कार्यक्रम क्रासर-लिरिक्स एकेडमी ऑफ म्यूजिक के बच्चों दी मनोहारी प्रस्तुति गिटार, ड्रम्स और तबले की थाप पर बाल कलाकारों ने की जुगलबंदी जहां डाल-डाल पर सोने की चिड़ियां करती हैं बसेरा, वह भारत देश है मेरा..। मां तुझे सलाम व वंदे मातरम् सरीखे देश भक्ति गीतों की सुरमयी प्रस्तुति से नाट्य अकादमी (गोमतीनगर) का ऑडिटोरियम गुलजार था। मौका था रविवार को लिरिक्स अकादमी ऑफ म्यूजिक (अलीगंज, इंदिरानगर) के स्पंदन 2017 का। नृत्य देख दर्शक रह गए दंग सरस्वती वंदना और दीप प्रज्जवलन के साथ शुरू हुए इस कार्यक्रम में कलाकारों ने घंटों धमाल किया। बांसुरी, गिटार, वायलिन, तबला और ड्रम्स पर ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा.. जैसे गीतों पर कलाकारों ने मोहक प्रस्तुति पेश की। नृत्य विभाग के बच्चों ने भरतनाट्यम व कत्थक नृत्य की भावपूर्ण प्रस्तुति की,जिसे देख दर्शक दंग रह गए। वेस्टर्न डांस में खूब दिखाए लटके-झटके डरावने लिबास में ‘भूत हूं मैं के लटके-झटके से रोंगटे खड़े कर देने वाला वेस्टर्न डांस पेश कर बाल कलाकारों ने माहौल को रोमांचित कर दिया। की-बोर्ड पर एक हसीना थी गीत पर बाल कलाकार अभ्युदय, मनान, रंजना व रुपेश सहित अन्य बच्चों ने मोहक नृत्य पेश किया। सीनियर वर्ग के छात्रों ने रोबोटिक्स, हिपहॉप, लॉकिंग, कंटम्परेरी डांस प्रस्तुत किया। सॉरी-सॉरी व छोटा बच्चा समझ के हमको न समझाना रे.. गीत पर दो से तीन साल के बच्चों ने डांस कर लोगों को चौंकाया। वहीं उनकी मम्मियों ने ओरे पिया गीत पर वॉलीवुड डांस कर दर्शकों को अचंभित कर दिया। कार्यक्रम के अंत में प्रतिभागी बच्चों को प्रमाण पत्र दिया गया। मौके पर एकेडमी के शिक्षक बृजेश कुमार, जितेंद्र कुमार, विवेक कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Child Artists Bikehera Jalwa
भगवान की भक्ति से होगा दुखो का अंतआखिरकार पिंजड़े में कैद हो गया दहशत का पर्याय बना तेंदुआ