class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: गोंडा में गूंज रहे हैं बहादुर नगमा के नगमें, होंगी सम्मानित

nagma

एटीएम कार्ड बदल कर धोखे से दस हजार रुपये लेकर भागने वाले को दबोच कर पुलिस को सौंपनें वाली बहादुर नगमा के के हौसलें के नगमें अब पूरे जिले में गूंज रहे हैं। इस बहादुरी के लिए जहां जिला प्रशासन ने उसका नाम रानी लक्ष्मी बाई पुरस्कार के लिए भेजने का फैसला किया है वही सामाजिक संगठन उसे सम्मानित करने के लिए आगे आये हैं। 

मन मे कुछ कर गुजरने की इच्छाशक्ति हो तो सारे काम आसान हो जाते है।इसी  इच्छाशक्ति का नमूना जिले पर देखने को मिला है।नगमा के इस उत्कृष्ट कार्य और जज्बे से गोंडा मे एक मिसाल कायम कर दी।इटियाथोक के करमडीह गाव की रहने वाले अज़ीज़ खान सिचाई विभाग मे नलकूप आपरेटर के पद पर हल्धरमऊ मे तैनात है।परिवार मे शिक्षा की लौ खुद उन्होंने जलाई। परिवार मे तीन बेटे और तीन बेटियां है। तीनो बेटियां नगमा,शबनम और सलमा की प्रारम्भिक शिक्षा इटियाथोक के एमएचएमएस पब्लिक स्कूल मे हुई ।गोंडा के एलबीएस डिग्री कालेज से तीनो बेटियों को बीएससी की शिक्षा ग्रहण करवाया। इसी बीच नगमा का सेलेक्शन बीटीसी मे पयागपुर के लिए हो गया।

यूं दिखाई नगमा ने दिलेरी:

बीते सोमवार को नगमा अपने पिता के साथ बीटीसी एड्मिशन की फीस जमा करने के लिए गोंडा के एलबीएस चौराहे के पास आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम से पैसा निकालने गई।एटीएम  मे नगमा ने जैसे ही एटीएम कार्ड को स्वीप कर एमाउंट भरा उसके बाद एटीएम से पैसो की निकासी नही हो पाई।एटीएम  मे पहले से मौज़ूद एक व्यक्ति ने नगमा से कहा लाओ हम आपका विड्राल कर दे।नगमा ने एटीएम उसको दिया। फुर्ती के साथ उस व्यक्ति ने एटीएम को बदला और दूसरे एटीएम से पैसो की निकासी करने लगा।इसी बीच नगमा ने देखा कि वह व्यक्ति एटीएम से पैसा निकाल रहा है लेकिन उसके हाथ कांप रहे है।नगमा को माजरा समझने मे देर न लगी।वह तुरंत उस पर टूट पडी भागने की फिराक मे वह जल्दी से एटीएम से बाहर निकला।

दूसरे साथी के साथ जैसे ही वह मोटर साइकिल पर सवार होने लगा नगमा ने उसको पीछे से शर्ट दबोच कर मोटर साइकिल से नीचे गिरा कर शोर मचाने लगी।उसे दबोचे हुये नगमा ने 100 को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शातिर को पकड़ लिया और केस दर्ज किया। 

बोले पिता : पिता अज़ीज़ का कहना है कि जब मेरी तीनो बेटियां स्नातक की शिक्षा ग्रहण के लिए जाती थी।तब  लोग यही कहते थे कि इन्होने ही केवल शिक्षा की जिम्मेदारी ले रखी है।उस बात पर वह कहते थे कि परिवार मे हम सबको अच्छी शिक्षा दिलवायेगे उसके लिए चाहे जो भी जतन करना पड़े ।घर के मुखिया ने शिक्षा के साथ साथ अच्छे संस्कार भी परिवार को दिलाए। जिसकी मिसाल आज सबको देखने और सुनने को मिल रही है।

सामाजिक संस्थाओ ने बढ़ाये हाथ : नगमा की इस बहादुरी को लेकर सृजन सेवा समिति के सचिव कमलकांत शुक्ल ने कहा कि बहादुर मर्दानी नगमा को समिति की तरफ से सम्मानित किया जायेगा।एमएचएमएस पब्लिक स्कूल के संस्थापक डॉ ज़ामिन अली ने भी नगमा को जल्द ही सम्मानित करने की बात कही है।

UP TET: परीक्षा में किया नकल तो जिंदगीभर पछताएंगे, जारी हुई नियमावली

बिहार के शेखपुरा में दिनदहाड़े इंडियन बैंक की शाखा से 22 लाख की लूट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bravery story of gondas nagma echoing all around will be honored
मेयर के लिए महिला प्रत्याशी की खोज तेजमुख्यमंत्री ने 'उपसा' के कामकाज की समीक्षा की