class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकेटीयू : सात साल का इंतजार खत्म, लोकार्पण आज

- प्रधानमंत्री आज करेंगे एकेटीयू के नए परिसर का लोकार्पण, वर्ष 2010 में हुई थी निर्माण की शुरुआत लखनऊ। डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) का सात साल लम्बा इंतजार मंगलवार को खत्म होने जा रहा है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एकेटीयू के नए परिसर का लोकार्पण करेंगे। विश्वविद्यालय के इस नए परिसर को यह रूप लेने में करीब सात साल का समय लगा। इस दौरान कई उतर-चढ़ाव से गुजरना पड़ा। काम रुका। भ्रष्टाचार की भी बात आई। लेकिन, मौजूदा कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक ने इसके निर्माण कार्य को रफ्तार दी। फाइलों में बढ़ रही कीमत पर लगाम लगाई। इसका नतीजा है कि नए सत्र से पढ़ाई शुरू होने जा रही है। - एकेटीयू के न्यू कैपस का निर्माण 2010 में शुरू हुआ था। - 30 एकड़ के क्षेत्रफल में फैले इस कै पस का निर्माण 2011 से रुक गया था। - कुलपति प्रो. विनय पाठक के पदभार संभालने के बाद फिर से इसका निर्माण शुरू हुआ। - पहले चरण में आठ से नौ एकड़ जमीन में निर्माण किया गया। जिसमें प्रशासनिक भवन, एकेडमिक भवन और पुस्तकालय भवन का निर्माण हुआ। - परिसर के निर्माण की अनुमानित लागत को करीब 290 करोड़ रुपये से घटाकर 197 करोड़ के आस-पास ले आए। - नए सत्र से परिसर में एडवांस स्टडी सेंटर की शुरुआत की जाएगी। (बॉक्स) प्रधानमंत्री इसका करेंगे लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एकटीयू के नवीन परिसर में तीनों भवनों, कलाम स्मारक एवं सेंटर ऑफ एडवांस स्टडीज का लोकार्पण करेंगे। नए भवन में 11 वैज्ञानिकों की प्रतिमाएं भी स्थापित : परिसर में तीन मुख्य भवन हैं, जिसमें प्रशासनिक भवन, शैक्षिक भवन और पुस्तकालय शामिल है। शैक्षिक भवन में आगामी सत्र से सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज का संचालन किया जाएगा। साथ ही परिसर कलाम मेमोरियल भी स्थापित किया गया है। पुस्तकालय में 11 वैज्ञानिकों की आदमकद प्रतिमाएं स्थापित की जा रही हैं, जिसमें डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, हर गोविन्द खुराना, प्रफुल्ल राय, सतेन्द्र नाथ बोस, सुब्रामण्ह्यम चंद्रशेखर, जानकी अ माल, रामानुज श्रीनिवास, विक्रम साराभाई, होमी जहांगीर भाभा, वेंकट रमन चन्द्रशेखर एवं आर्यभट्ट जैसे वैज्ञानिकों की प्रतिमाएं शामिल हैं।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:AKTU : waiting for seven years to end, release today