class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई में गिरफ्तार सलीम पर आतंक का ऐसा जुनून, पिता को मिट्टी तक देने नहीं आया

आतंकी सलीम का हथगाम के बंदीपुर स्थित घर।

मुंबई में पकड़े गए सलीम पर आतंकी बनने का ऐसा जुनून सवार हुआ कि उसने अपने परिवार की ओर मुड़कर नहीं देखा। वह करीब आठ साल से हथगाम नहीं आया और न ही उसने परिवार के किसी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। आतंक फैलाने में मशगूल सलीम खान को उसके पिता की मौत भी नहीं बुला सकी। पांच महीने पहले उसके पिता का निधन हुआ लेकिन वह मिट्टी तक देने नहीं पहुंचा। 
  फतेहपुर जिले में हथगाम थाना क्षेत्र के बंदीपुर गांव में उसका पूरा परिवार है। सलीम के चार भाई अलीम, मुस्तकीम, कलीम और आफिफ हैं। तीन बहनों में शाहीन और आसिया की शादी हो चुकी है, जबकि राबिया की दिमागी हालत ठीक नहीं है। सलीम की शादी कबरा मजरे हकीमपुर खंतवा थाना खखरेरू की रहने वाली नाजमीन के साथ हुई थी। शादी के बाद सलीम ने बीवी व बच्चों को दुबई शिफ्ट किया और खुद भी वहीं रहने लगा। उसका एक बेटा शहनवाज व एक बेटी बताई जा रही है। सलीम का भाई अलीम प्लंबर का काम करता है। कलीम दिव्यांग और मुस्तकीम किसान है। ग्रामीणों ने बताया कि पांच महीने पहले जब उसके पिता की मौत हुई तो परिजनों ने फोन पर जानकारी दी। उसने छुट्टी नहीं मिलने की बात कहकर फोन काट दिया। करीब पंद्रह साल पहले जब उसकी बहन शाहीन की शादी हुई थी, तब उसे गांव में देखा गया था। उसके बाद आठ साल पहले भी एक बार वह गांव में दिखा था, तबसे गांव नहीं आया। 
हथगाम में लश्कर का स्लीपिंग मॉड्यूल
जनवरी 2008 में जब रामपुर के सीआरपीएफ कैंप पर आतंकी हमला हुआ और आठ जवान शहीद हुए थे, तब जांच में भी हथगाम के सलीम खान का नाम पहली बार प्रकाश में आया था। इस हमले के आतंकियों व मददगारों को जब एटीएस ने गिरफ्तार करना शुरू किया तो उस समय यह पता चला कि गंगापार...हथगाम में लश्कर-ए-तैय्यबा का एक स्लीपिंग मॉड्यूल है। मगर पूरी जानकारी नहीं होने के कारण पुलिस की टीमें उस पर शिकंजा नहीं कस सकीं। सूत्रों की मानें तो रामपुर सीआरपीएफ अटैक की जांच में लगी पुलिस की टीमों ने बिहार के रहने वाले शबा नाम के आतंकी को गिरफ्तार किया था। इसके बाद 2008 में ही एटीएस ने प्रतापगढ़ जनपद के कुंडा के रहने वाले कौशर को गिरफ्तार किया। कौशर ने इस हमले के बाद आरोपियों को छिपाया था।  इन दो आरोपियों के पकड़े जाने पर सलीम खान का नाम चर्चा में आया। पुलिस को केवल यह पता चला कि गंगापार हथगाम में लश्कर का एक स्लीपिंग मॉड्यूल है। टीमों ने अपना फोकस सलीम पर किया था लेकिन मामले का खुलासा नहीं कर पाईं। मुंबई एयरपोर्ट पर सलीम खान की गिरफ्तारी होते ही तमाम रहस्य सामने आ गए। जांच में आया कि उसने 2007 में ही पाकिस्तान के मुज्जफराबाद में लश्कर के कैंप में ट्रेनिंग ली और फिर आतंकी गतिविधियों में शामिल हो गया।

अातंकी की मां।
घर के हालत बदतर
सलीम खान आतंकी संगठन के साथ मिलकर भले ही लाखों में खेल रहा था, मगर हथगाम में उसका परिवार बदतर हालात में है। उसका भाई कलीम दुर्घटना में विकलांग हुआ था। सही समय पर ऑपरेशन के लिए पैसे नहीं मिले तो उसका पैर काटना पड़ा। जान तो बच गई लेकिन वह अपाहिज हो गया। इसी तरह से उसकी बहन राबिया दिमागी रूप से कमजोर है और घर में रहती है। दो-ढाई बीघे खेत होने की बात चर्चा में रही। ग्रामीणों ने बताया कि सलीम के परिवार की हालत बेहद ही खराब है। इतना ही नहीं मौत के बाद ग्रामीणों ने ही उसके पिता के कफन-दफन का इंतजाम कराया था। 
लोकल पुलिस को भनक तक नहीं 
हथगाम के बंदीपुर गांव से निकले सलीम खान की जड़ें कहां तक फैली हैं, इसके बारे में जिला पुलिस को कोई भनक तक नहीं थी। स्थानीय पुलिस के पास इस तरह की सूचनाएं न होना या फिर गतिविधि के बारे में जानकारी न लगना, महकमे के सूचना तंत्र पर सवाल उठाता है। टीवी पर सलीम खान की गिरफ्तारी की खबर के बाद उसके दरवाजे पर भीड़ लग गई। इंस्पेक्टर हथगाम भी सलीम खान के घर पहुंचे और उसके भाइयों से जानकारी हासिल की।  
कक्षा पांच तक की शिक्षा हथगाम से ली
परिजनों ने बताया कि सलीम खान ने कक्षा पांच तक की शिक्षा अंबेडकर प्राथमिक स्कूल हथगाम से ली है। इसके बाद उसने पढ़ाई नहीं की, कमाई के लिए दुबई गया तो वहीं का होकर रह गया। उसने अपनी बीवी नाजमीन को भी दुबई बुलाया। बेटी होने के पहले नाजमीन हथगाम आई थी लेकिन वर्तमान में उसका पता परिजन नहीं बता सके। सलीम की मां एहसान फातिमा मीडिया कर्मियों से मिलीं। उन्होंने कहा कि उन्होंने किसी तरह से मेहनत-मजदूरी करके अपने बच्चों को पढ़ाया था। सलीम ऐसा काम कर रहा है, इसकी जानकारी नहीं थी, उन्हें अब भी यकीन नहीं हो रहा है। उससे फोन पर ही बात होती थी लेकिन वह यहां नहीं आया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Suspected LeT terrorist Saleem Khan arrested from Mumbai airport days after J&K police busts terror module
मुंबई से पकड़े गए आतंकी सलीम के कानपुर से जुड़े तार, ATS चौकन्नीकानपुर के किदवई नगर में धमाके से सनसनी, चार हिरासत में