class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्नाटक में शौचायल के लिए भूख हड़ताल करने वाली लावण्या अाज कानपुर से देंगी स्वच्छता का संदेश 

लावण्या।

स्वच्छता को लेकर देशभर में रोल मॉडल बनने वाली कर्नाटक की लावण्या की जितनी भी प्रशंसा की जाए, कम होगी। कक्षा 11 की इस छात्रा ने अनूठी नजीर पेश की है। राष्ट्रपति, मुख्यमंत्री और राज्यपाल के सामने ईश्वरीगंज में शुक्रवार को वह मंच से अपने अनुभव बयां करेगी। स्वच्छता की अलख जगाने के लिए लावण्या ने दो दिन तक घर में भूख हड़ताल की थी। आखिरकार उनके परिजनों को नाराज होने के बावजूद शौचालय बनवाना पड़ा। यहीं से उसकी जागरूकता को पंख लग गए। उसकी मेहनत रही कि गांव में 60 शौचालय बन गए। यूनिसेफ ने भी लावण्या का लोहा मानकर अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है।
सरकारी अनुदान से बना शौचालय
कर्नाटक के तुमकुर जिले के हलेनहल्ली गांव निवासी किसान देवराज के तीन बच्चों में लावण्या भी है। तीन वर्ष पूर्व उसने स्कूल में जागरूकता कार्यक्रम सुना। इसमें खुले में शौच के दुष्प्रभाव बताए गए। इससे प्रभावित होकर लावण्या ने परिजनों से शौचालय बनवाने को कहा। परिजनों ने मना कर दिया तो उसने खाना-पीना छोड़ दिया। परिजनों ने उसे डांटा पर वह नहीं मानी। आखिरकार शौचालय बनवाने के आश्वासन पर लावण्या ने भूख हड़ताल खत्म की। सरकारी अनुदान से लावण्या के घर में शौचालय बन गया। कानपुर आई लावण्या ने हिन्दुस्तान से बातचीत में बताया कि उनके गांव में शौचालय न के बराबर थे। उसके प्रयास के बाद वहां 60 शौचालय बन चुके हैं। कर्नाटक के मुख्यमंत्री इसके लिए उसे सम्मानित भी कर चुके है। राष्ट्रपति से मिलने को लेकर लावण्या काफी उत्साहित है। वह पीएम नरेंद्र मोदी से मिलना चाहती है। आईएएस बनने का सपना पाले लावण्या के मुताबिक उसका गांव 90 फीसदी ओडीएफ हो चुका है।
कानपुर अाने के लिए भी करनी पड़ी हठ
लावण्या ने बताया कि उनका गांव गरीब है। पिता भी किसानी करके परिवार का भरण-पोषण करते हैं। जब उसे राष्ट्रपति के कार्यक्रम में कानपुर आने का न्योता मिला तो परिजनों ने भेजने से मना कर दिया। ऐसे में कलक्टर और अफसरों के समझाने पर उसे यहां आने दिया गया। सीएम के सम्मान समारोह में भी परिजन भेजने को तैयार नहीं थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lavani had organized a hunger strike for toilet in Karnataka.
विश्व का सबसे बड़ा शौचालय भारत में बन रहा : बिंदेश्वर पाठकइटावा के डाक्टर का अपहरण, 55 लाख फिरौती मांगी