class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैफियात एक्सप्रेस: 27 घंटे बाद दिल्ली-हावड़ा रूट पर चलने लगी ट्रेनें

kaifiyat express

कानपुर-इटावा सेक्शन पर स्थित पाता और अछल्दा स्टेशन के बीच दुर्घटनाग्रस्त हुई कैफियात एक्सप्रेस की वजह से बुधवार से ठप चल रहा दिल्ली रूट गुरुवार को पूरी तरह शुरू हो गया। रेल दुर्घटना के 24 घंटे बाद अप अौर लगभग 27 घंटे बाद डाउन लाइन शुरू हो गई।

अप लाइन तड़के 5:58 बजे दुरुस्त हो गई। इस ट्रैक पर 44 मिनट बाद मालगाड़ी निकालकर इसका ट्रायल चेक करने के बाद रूट पर ट्रेनों का अावागमन शुरू कर दिया गया। इसके लगभग तीन घंटे बाद डाउन लाइन ठीक कर दी गई अौर सुबह 9:05 पर परिचालन शुरू कर दियागया। 

एनसीआर के सीपीआरओ जीके बंसल ने ट्रैक बहाली की बात की पुष्टि करते हुए कहा कि दोनों ही ट्रैक रेलवे ने बताए गए समय से पहले फिट कर दिए। इससे आमजन को कम दिक्कतें हुई। रूट बाधित होने से जब ट्रेनें बदले रूटों से चलाई जाती हैं तो तय है कि वे लेट होंगी ही। इधर, सेंट्रल स्टेशन पर खोले गए आपात कक्ष में भी यात्रियों को जानकारी दी जाती रही।

कैफियत एक्सप्रेस हादसा: पापा..पापा.. चिल्लाई और थम गई बिटिया की सांस

177 ट्रेनें प्रभावित हुईं,  31 हजार से अधिक टिकट निरस्त हुए

ट्रैक बाधित होने की वजह से बुधवार से गुरुवार को सुबह दस बजे तक शताब्दी, स्वर्ण शताब्दी सहित 177 ट्रेनें प्रभावित हुईं और 41 ट्रेनें निरस्त की गईं। इसके चलते गुरूवार की सुबह तक 31 हजार से अधिक टिकट निरस्त हुए तो 42 हजार यात्रियों को दूसरी ट्रेनों में सफर की इजाजत देकर भेजा गया। डायरेक्टर जितेंद्र कुमार ने घटना के मद्देनजर टिकट वापसी काउंटर से लेकर स्टेशन पर अतिरिक्त स्टॉफ की ड्यूटी लगा रखी थी ताकि यात्रियों को दिक्कतें न हो।

कानपुर सेंट्रल में होगी सीआरएस जांच, 154 लोग बुलाए गए

रेल मंत्रालय के निर्देश पर शुक्रवार को मुख्य संरक्षा आयुक्त एसके पांडेय कैफियात एक्सप्रेस के दुर्घटना की जांच करेंगे। कानपुर सेंट्रल के डायरेक्टर कक्ष में 25 और 26 अगस्त को जांच होगी। इसमें इलाहाबाद मंडल के रेल प्रबंधक एसके पंकज और सभी अनुभागों के प्रमुख हिस्सा लेंगे। इसके साथ ही कैफियात एक्सप्रेस के चालक, गार्ड, पाता, अछल्दा के एएसएम, लाइनमैन सहित 154 लोगों को पूछताछ के लिए तलब किया गया है।
रेल हादसा: ये रही कैफियत एक्सप्रेस हादसे में घायलों की पूरी लिस्ट

आम जनता से भी अपील की गई है कि  यदि उन्हें घटना के बाबत किसी तरह की कोई जानकारी है तो वह भी सीआरएस  के समक्ष पेश होकर बयान दे सकते हैं। पीआरओ अमित मालवीय ने बताया कि सीआरएस जांच में घटना से जुड़े सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को समय से पहुंचने की सूचना दे दी गई है। सीआरएस दो दिनों की जांच में घटनास्थल का भी मुआइना करेंगे। नौ महीने में यह पहला मौका है, जब तीसरी बार सीआरएस जांच को कानपुर आएंगे। इसके पहले रूरा और पुखरायां रेल हादसे की जांच कानपुर सेंट्रल पर ही हुई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:delhi howrah route starts in kanpur after kaifiyat express mishap
चित्रकूट में 12 घंटे से डकैतों से चल रही मुठभेड़ में दरोगा शहीद, दूसरा गोली से घायलउन्नाव के शुक्लागंज में बवाल, कानपुर-लखनऊ मार्ग जाम