class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार साल बाद कानपुर की धरती से भाजपा का फिर विजय शंखनाद

भाजपा प्रदेश कार्यसमिति।

भारतीय जनता पार्टी ने चार साल बाद फिर उसी धरती को विजय शंखनाद के लिए चुना जहां से 2013 में उसने देशव्यापी विजय का विगुल फूंका था। अंतर सिर्फ इतना था वह विगुल बुद्धा पार्क से फूंका गया था जहां अपार भीड़ ने गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के भावी प्रधानमंत्री होने का विश्वास दिलाया था जो पूरा भी हुआ। शायद उसी विश्वास पर भरोसा करते हुए भाजपा ने कार्यसमिति की बैठक के बहाने चुनावी शंखनाद कर दिया है।
भाजपा कार्यसमिति की बैठक कई मायने में महत्वपूर्ण रही। भाजपा के लिए बुन्देलखंड की जमीन हमेशा से पथरीली रही है। विधानसभा चुनाव में भाजपा यहां की धरती को कुछ हद तक अपने अनुकूल करने में कामयाब रही। इसी कामयाबी को इस बैठक के जरिए भाजपा न सिर्फ दोहराना चाहती है बल्कि जहां चूक रह गई थी उसकी भरपाई भी करना चाहती है। कानपुर और उसके आसपास के जिलों पर तो इस बैठक के सकारात्मक असर की गवाही भाजपा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के रोशन चेहरे दे रहे हैं। आयोजन के पहले से ही उनके अंदर उत्साह का जबरदस्त संचार हो चुका है। 17 जिलों वाले कानपुर और बुन्देलखंड क्षेत्र में जहां 11 लोकसभा सीटें हैं वहीं यह 52 विधानसभा सीटों वाला भारी-भरकम क्षेत्र है। इस पूरे क्षेत्र में जहां कानपुर और झांसी नगर निगम हैं वहीं 33 नगर पालिका परिषद हैं। 63 नगर पंचायत भी इसी क्षेत्र में आती हैं। इसीलिए भाजपा की कोशिश रही कि जो संदेश इस धरती से दिया जाएगा वह व्यापक और फलदायी हो सकता है।
भाजपाइयों में भी इस बात को लेकर बराबर चर्चा रही कि कानपुर की धरती चुनावी महासमर की शुरुआत के लिए मुफीद है। यानि कानपुर भाजपा को फलने लगा है। इसका कारण स्पष्ट है कि लोकसभा चुनाव के  लिए नरेंद्र मोदी ने 19 अक्टूबर 2013 का दिन चुना था। विधानसभा चुनाव की भी विधिवत शुरुआत हम दिसंबर 2016 की प्रधानमंत्री की निरालानगर में हुई रैली को मान सकते हैं। कम से कम भाजपाई तो अब ऐसा ही मानने लगे हैं। भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता और स्थानीय से लेकर आसपास के जिलों तक के पदाधिकारियों में कार्यसमिति की बैठक उत्साह से भर गई। भाजपाइयों के लिए तो शायद दीवाली से पहले ही दीवाली आ गई। उनके उत्साह का अंदाजा भी इसी बात से लगाया जा सकता है कि जहां पिछले कुछ दिनों से भाजपाई जीएसटी को लेकर असहज महसूस कर रहे थे वहीं अब वे बड़ी आसानी से क्लीन स्पीव का दावा करने लगे हैं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: BJP reopens history from Kanpur
नहीं थमा बवाल VIDEO, उरई में मेडिकल छात्र को बस से उतार कर पीटाकुशासन खत्म, सुशासन का दौर शुरू : डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय