class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाबर-औरंगजेब जैसे मुगल पाठ्यक्रम से हटेंगे: डिप्टी सीएम

उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि शिक्षा में सुधार के लिए सरकार दृढ संकल्प है। बाबर, औरंगजेब जैसे मुगल लुटरों का पाठ्यक्रम में कोई स्थान नहीं होगा। बच्चों को देश के प्रति अच्छी सोच रखने वाले महापुरुषों को पढ़ाया जाएगा। प्राथमिक स्तर की एनसीईआरटी की किताबों में होने वाले बदलाव में इस पैटर्न को शामिल किया जायेगा। अगली परीक्षा में नकल अध्यादेश कड़ाई से लागू होगा। 

डा. शर्मा बुधवार को टीडी कालेज में आयोजित शहीद उमानाथ सिंह की जयंती समारोह में शामिल होने से पहले पुलिस लाइन में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक सत्र की घोषणा कर दी है ताकि अगले सत्र से समय के साथ प्रवेश, परीक्षा और परिणाम घोषित हो सकें। कहा कि पाठ्यक्रमों में करीब 30 फीसदी बदलाव होगा। जिनके अन्दर देश के प्रति चिंता थी और उन्होंने प्राण न्यौछावर कर दिया उन्हें नयी पीढ़ी से अवगत कराना है। राणा प्रताप को विद्रोही बताना, शिवाजी को लुटेरा करार देना दुर्भाग्यपूर्ण है। लुटेरे तो बाबर, औरगंजेब थे। इतिहासकारों ने उन्हें महान बताकर देश के साथ मजाक किया। बहादुरशाह जफर, अब्दुल कलाम, रानी लक्ष्मी बाई, राणा प्रताप, शिवाजी ऐसे शासकों ने देश की चिंता की। सही इतिहास नयी पीढ़ी को बतायेंगे ताकि सबको सच्चाई का पता चल सके। 

उन्होंने कहा कि नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए नकल अध्यादेश कानून पर कड़ाई से अनुपालन होगा। अपरिहार्य स्थिति में स्वकेन्द्र बनाये जाएंगे। डा. शर्मा ने गुरुग्राम की घटना को निन्दनीय बताते हुए कहा कि निजी कालेजों में सुरक्षा का मानक रखना होगा। इसके लिए नयी नियमावली ला रहे हैं। कालेजों की जिम्मेदारी है कि शिक्षक, चालक का चरित्र खंगालें। यदि दोबारा ऐसी घटना होती है तो कालेज प्रबंधन जिम्मेदार होगा। प्रदेश में कानून व्यवस्था को बेहतर बताते हुए बिजली की समस्याओं दूर करने को कहा। बताया कि जौनपुर व गाजीपुर में लोग बिजली से जूझ रहे हैं। नये ट्रांसफार्मर बढाकर उन्हें निजात दिलाया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Robbers have no place in NCRT course: Deputy CM
फर्जीवाड़ा: 23 लाख निकाल कागजों पर बनावा दिये 199 शौचालयगरीबों के मसीहा थे पंडित दीनदयाल